Samachar Nama
×

Bhagalpur आकर्षक व आधुनिक तरीके से तैयार हो रहे हैं खादी के परिधान, पिछले साल की तुलना में इस साल 50 प्रतिशत अधिक कारोबार की उम्मीद
 

Bhagalpur आकर्षक व आधुनिक तरीके से तैयार हो रहे हैं खादी के परिधान, पिछले साल की तुलना में इस साल 50 प्रतिशत अधिक कारोबार की उम्मीद


बिहार न्यूज़ डेस्क आकर्षक व आधुनिक तरीके से खादी के तैयार परिधानों की मांग बढ़ गयी है. बुजुर्गों से लेकर युवा वर्गों को ये काफी आकर्षित कर रहे हैं. इससे सालाना कारोबार में भी लगातार वृद्धि हो रही है. जिला खादी पदाधिकारी शंभूनाथ मिश्रा ने बताया कि भागलपुर की खादी के परिधानों की मांग पूरे देश में है. यहां कारीगर और कच्चा माल आसानी से मिलने के कारण खादी की मांग लगातार बढ़ रही है.

पिछले साल की तुलना में इस बार खादी के कारोबार में लगभग 50 प्रतिशत की वृद्धि होने की उम्मीद है. विभाग से दस करोड़ रुपये के खादी के कपड़े बेचने का लक्ष्य मिला था. 80 प्रतिशत लक्ष्य पूरा हो चुका है. मार्च तक 12 करोड़ के कपड़े बिकने की उम्मीद है. जबकि पिछले साल छह करोड़ के आसपास था. उन्होंने बताया कि पटना स्थित खादी मॉल में ही सालाना चार करोड़ रुपये का माल जाता है. भागलपुर जितना राज्य में कहीं भी खादी व रेशमी वस्त्रत्त् का इतना बड़ा उत्पादन नहीं होता है. यहां सबसे अधिक 40 हजार कुशल कारीगर भी है.
सरकार भी दे रही खादी को बढ़ावा बिहार बुनकर कल्याण समिति के पूर्व सदस्य अलीम अंसारी ने बताया कि बिहार में 82 खादी की संस्थाएं है. भागलपुर में लगभग 17 संस्थाएं हैं. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सात अगस्त 2015 को राष्ट्रीय हथकरघा दिवस मनाने का शुरुआत की गयी. उन्होंने सभी परिवार घर में कम से कम एक खादी व एक हथकरघा का उत्पाद जरूर रखने का आह्वान किया था. इसके बाद खादी को नये रंग रूप में बाजार में प्रस्तुत किया जा रहा है. राज्य सरकार की ओर से खादी पुनर्रुद्धार योजना शुरू की गयी है. इस कारण खादी का व्यापार पहले की तुलना में लगातार बढ़ रहा है. मांग बढ़ने से जहां कारीगरों को रोजगार मिला है वहीं आमदनी भी बढ़ी है.

भागलपुर न्यूज़ डेस्क
 

Share this story