Samachar Nama
×

Begusarai माशूका से मिलने पहुंचे आशिक को बंधक बनाकर पीटा
 

Begusarai माशूका से मिलने पहुंचे आशिक को बंधक बनाकर पीटा


बिहार न्यूज़ डेस्क  आशिक दोस्त को माशूका के परिजनों की गिरफ्त से छुड़ाने के लिए पहलवानी को आए पिस्टल से लैस दोस्त को पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भेज दिया. जेल भेजे गए युवक की पहचान समस्तीपुर जिला के विभूतिपुर थाना क्षेत्र के सांख मोहन बदिया निवासी रामप्रकाश दास के पुत्र अमर कुमार के रूप में की गई है.

पुलिस के अनुसार खोदावंदपुर का एक ग्रामीण चिकित्सक मंगलवार की देर रात अपनी माशूका से मिलने उसके घर पहुंचा. लड़की के परिजनों ने आशिक को अपने घर के आसपास मंडराते देखकर उसको बंधक बनाकर पिटाई कर दी. घटना की सूचना पाकर युवक के परिजन युवती के घर पहुंचे और युवक को छुड़ाने का प्रयास करने लगे. इसी दौरान युवक का एक रिश्तेदार दोस्त देसी कट्टा के साथ मौके पर पहुंच कर अपनी धाक जमाते हुए तमंचे के बल पर बंधक बने युवक को छुड़ाने का प्रयास करने लगा. घटना की सूचना पाकर पुलिस ने हथियार सहित युवक को गिरफ्तार कर लिया. वहीं, घटनास्थल पर बंधक बने युवक खोदावंदपुर निवासी रामाशीष दास के पुत्र सुशील कुमार व प्रमोद कुमार को भी हिरासत में लेकर पूछताछ के लिए थाना ले गई.
पुलिस ने समस्तीपुर जिला अंतर्गत विभूतिपुर थाना क्षेत्र के सांखमोहन बदिया निवासी रामप्रकाश दास के पुत्र अमर कुमार के पास से एक देसी कट्टा बरामद किया. अमर और प्रमोद आपस में ममेरा फुफेरा भाई बताए जाते हैं. हिरासत में लिए गए तीनों से पुलिस पूछताछ के बाद सुशील व प्रमोद को छोड़ दिया.
वहीं, कट्टा के साथ गिरफ्तार सांखमोहन बदिया निवासी रामप्रकाश दास के पुत्र अमर कुमार को न्यायिक हिरासत में भेज दिया. जानाकरी के अनुसार खोदावंदपुर निवासी सुशील कुमार का अपने पड़ोस की एक लड़की से चक्कर चल रहा है. मंगलवार की देर रात वह अपनी प्रेमिका से मिलने उसके घर के बाहर चक्कर काट रहा था है. इसी क्रम में लड़की के घरवाले जग गए.
उनलोगों ने सुशील को पकड़ना चाहा तब तक वह तेजी से अपने घर की ओर भागा. लड़की के परिजनों ने सुशील को खदेड़कर पकड़ लिया. युवती के परिजनों ने अपने घर समीप लाकर हाथ-पैर बांधकर मारपीट किया. इसके बाद घटना की सूचना स्थानीय चौकीदार को दिया. सूचना पाकर स्थानीय चौकीदार घटना स्थल पर पहुंचे. इसी दौरान सुशील का भाई प्रमोद, अमर और कुछ अन्य युवक स्विफ्ट कार से अपने भाई को छुड़ाने के लिए पहुंच गए. इसी में से एक युवक कट्टा निकालकर हंगामा करने लगा. दोनों पक्ष से सैकड़ों लोगों की भीड़ जमा हो गयी. घटना की सूचना पाकर पुलिस ने घटनास्थल पर पहुंचकर सुशील एवं उसके भाई प्रमोद और उसके ममेरे भाई अमर को ग्रामीणों के पंजे से छुड़ाकर हिरासत में ले लिया. दोनों पक्ष के बीच सामाजिक स्तर पर हुई पंचायत के बाद आशिक व उसके भाई को पुलिस ने छोड़ दिया. वहीं, हथियार के साथ गिरफ्तार युवक को जेल भेज दिया गया.


बेगूसराय न्यूज़ डेस्क 
 

Share this story