Samachar Nama
×

Basti  नर्सों ने अपनी जिंदगी दांव पर लगाकर कोरोना मरीजों की सेवा की
 

Basti  नर्सों ने अपनी जिंदगी दांव पर लगाकर कोरोना मरीजों की सेवा की


उत्तरप्रदेश न्यूज़ डेस्क  कोरोना महामारी के दौरान चिकित्सा कर्मियों ने मरीजों की सेवा में अपना सब कुछ न्यौछावर कर दिया था। डॉक्टर के साथ इस लड़ाई में नर्सों ने अहम भूमिका निभाई। वह अपने परिवार से दूर रहकर पूरी निष्ठा और ईमानदारी से अपना कर्तव्य निभा रही है।

कोरोना काल में मेडिकल कॉलेज बस्ती की चिकित्सा इकाई ओपेक अस्पताल काली में मरीजों की सेवा करते हुए स्टाफ नर्स प्रेमलता भारती भी कोरोना पॉजिटिव हो गईं। 1 जून 2021 को एसपीजीआई लखनऊ में इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई। इस दिन उनकी सेवा को याद करना बहुत जरूरी है। क्योंकि बिना नर्सिंग स्टाफ के कोरोना महामारी से लड़ना बिल्कुल संभव नहीं है। वे चौबीसों घंटे काम करते हैं। उनकी सेवा और कृतज्ञता दिखाने के लिए धन्यवाद के शब्द बहुत छोटे हैं। जिला अस्पताल में 18 नर्सें 37 कार्य कर रही हैं, जिला अस्पताल में स्टाफ नर्स के कुल स्वीकृत 37 पदों के विरूद्ध वर्तमान में 18 ही कार्यरत हैं.यानी 19 पद खाली हैं। 19 के मुकाबले 14 स्टाफ नर्स काम कर रही हैं। टीबी अस्पताल में 5 की जगह सिर्फ एक नर्स तैनात है।

बस्ती  न्यूज़ डेस्क
 

Share this story