Samachar Nama
×

Bareli  ओपीडी में 30 प्रतिशत कम हो गए मरीज, इलाज के लिए जिला अस्पताल जाने से डर रहे मरीज, कुतुबखाना फ्लाईओवर बनने से पहले परेशानी
 

Bareli  ओपीडी में 30 प्रतिशत कम हो गए मरीज, इलाज के लिए जिला अस्पताल जाने से डर रहे मरीज, कुतुबखाना फ्लाईओवर बनने से पहले परेशानी


उत्तरप्रदेश न्यूज़ डेस्क   कुतुबखाना फ्लाईओवर निर्माण का काम चलने से अस्पताल तक जाने में मरीजों-तीमारदारों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है और इसका ओपीडी पर भी दिख रहा है. पहले जहां ओपीडी में धक्का-मुक्की की नौबत आ जाती थी. वहीं  दोपहर 1 बजे तक ही ओपीडी खाली हो गई थी. ओपीडी करीब 30 प्रतिशत तक कम हो गई हैै.

अस्पताल के सामने कीचड़ फैला है और पैदल चलने वालों को भी काफी परेशानी हो रही है. इसका असर ओपीडी पर देखने को मिल रहा है. इस मौसम में अस्पताल की ओपीडी में औसतन 4000 मरीज रोजाना आते हैं, लेकिन जब से कुतुबखाना फ्लाईओवर का निर्माण शुरू हुआ है, ओपीडी तीन हजार से भी कम हो गई है.  ओपीडी में 1460 नए मरीजों का पर्चा बना. जबकि 1150 पुराने मरीज इलाज कराने पहुंचे.
एआरवी लगवाने वाले मरीज कम
एंटी रैबीज वैक्सीन लगवाने आने वाले मरीजों की संख्या में भी कमी हुई है. जिला अस्पताल में औसतन रोजाना 130 मरीज एआरवी लगवाने आते थे, लेकिन इस समय 100 हो गई है.
होम्योपैथी ओपीडी 40 फीसदी कम हुई
जिला अस्पताल परिसर में ही होम्योपैथी की ओपीडी का भी संचालन भी किया जाता है. यहां प्रतिदिन औसतन 300 मरीज इलाज के लिए आते थे, लेकिन जब से कुतुबखाना फ्लाईओवर का निर्माण कार्य शुरू हुआ है, ओपीडी में मरीजों की संख्या करीब 40 प्रतिशत कम हो गई है. इस समय 200 से भी कम मरीज होम्योपैथी की ओपीडी में आ रहे हैं.
अफसरों ने कोई ठोस ट्रैफिक प्लान नहीं बनाया
दुकानदारों का कहना है कि ट्रैफिक पुलिस जहां मर्जी हो रही है वहीं से ट्रैफिक निकाल रहे है. रोड पर वाहनों का आना बंद हो गया है, गलियों में जाम की समस्या विकराल रूप लेती जा रही है. इस वजह से आने वाले दिनों में बड़ी आबादी को जाम की समस्या झेलनी पड़ सकती है. फिलहाल जिला अस्पताल, घंटाघर, इंदिरा मार्केट, गोल मार्केट, पंजाबी मार्केट, कुमार टाकीज आदि बाजार आने वाले लोग त्रस्त हैं.
इंदिरा मार्केट से घंटाघर तक चल रहा काम
कुमार टाकीज से जिला अस्पताल होते हुए इंदिरा मार्केट से सीधे घंटाघर तक फ्लाईओवर निर्माण का काम चल रहा है. फ्लाईओवर के लिए पिलर की कास्टिंग, खोदाई का काम हो रहा है. कोतवाली से घंटाघर की एक साइड रोड पर वाहनों की एंट्री पर रोक तो लगा दी गई है, लेकिन समस्या से निपटने के लिए जरूरी इंतजाम अधिकारी नहीं करा सके, जो शहर के लिए समस्या का सबब बन गया है.
कुतुबखाना फ्लाई ओवर के पिलर खोदने के दौरान निकल रही मिट्टी को हटाया जा रहा है. पानी निकलने से कीचड़ होगा, लेकिन मिट्टी हटाने से बड़ी राहत मिलेगी. टूटी पाइप लाइन की मरम्मत का काम भी चल रहा है. धूल न उड़े इसलिए पानी का छिड़काव भी कराया जा रहा है.
-एसके यादव, एसीईओ बरेली स्मार्ट सिटी कंपनी


बरेली न्यूज़ डेस्क
 

Share this story