Samachar Nama
×

Bareli  फर्जी नर्सरी के 24.67 लाख के बिल को मंजूरी, फतेहगंज पश्चिमी के बीडीओ ने हरियाली में किया बड़ा गोलमाल
 

Bareli  फर्जी नर्सरी के 24.67 लाख के बिल को मंजूरी, फतेहगंज पश्चिमी के बीडीओ ने हरियाली में किया बड़ा गोलमाल


उत्तरप्रदेश न्यूज़ डेस्क   बागवानी और सीआईबी घोटाले के बाद फर्जी नर्सरी के नाम पर 24.67 लाख के एस्टीमेट को मंजूरी देने का मामला पकड़ा गया है. डीसी मनरेगा ने  बीडीओ, पंचायत सेक्रेटरी, तकनीकी सहायक और ऑपरेटर को नोटिस जारी कर तीन दिन में जवाब देने को कहा है.
धंतिया गांव में रेखा महिला स्वयं सहायता समूह के नाम से फर्जी नर्सरी दिखाकर एस्टीमेट तैयार कराया गया. पंचायत सेक्रेटरी, तकनीकी सहायक और बीडीओ ने 24.67 लाख के फर्जी एस्टीमेट को वित्तीय एवं प्रशासनिक स्वीकृति दी. भुगतान कराने के लिए मौजूदा प्रधान ज्ञान सिंह पर दबाव बनाया जा रहा था. 17 जनवरी को पूर्व प्रधान सूरजपाल अपने साथ रेखा स्वयं सहायता समूह की अध्यक्ष को लेकर डीसी मनरेगा के पास आया. नर्सरी का भुगतान कराने को कहा. मौजूदा प्रधान की शिकायत पर एक दिन पहले डीसी मनरेगा ने मामले की जांच की तो सच्चाई सामने आ गई.
पता चला कि महिला समूह की सदस्यों को नर्सरी के बारे में जानकारी तक नहीं थी.

एक एकड़ नर्सरी का एस्टीमेट 24.67 लाख
मनरेगा के मानक के मुताबिक एक एकड़ में नर्सरी तैयार करने में 2 से 2.50 लाख की लागत आती है. जबकि धंतिया में एक एकड़ की नर्सरी का एस्टीमेट 24.67 लाख बनाया गया. निजी जमीन पर नर्सरी दिखाई गई. जबकि समूह सिर्फ ग्राम समाज की जमीन पर ही नर्सरी बना सकते हैं.
धंतिया में नर्सरी फर्जी निकली है. जांच में गड़बड़ी सामने आई है. एक एकड़ की निजी जमीन की नर्सरी का 24.67 लाख का एस्टीमेट बीडीओ और सेक्रेटरी ने मंजूर कर दिया. गड़बड़ी में शामिल अधिकारी-कर्मचारियों को नोटिस दिए हैं.
- गंगाराम, डीसी मनरेगा


बरेली न्यूज़ डेस्क
 

Share this story