Samachar Nama
×

Allahbad मरीजों के बेड की चादर बदलने की रोज दें रिपोर्ट, निलंबित कर्मचारियों ने दी सफाई 
 

Allahbad मरीजों के बेड की चादर बदलने की रोज दें रिपोर्ट, निलंबित कर्मचारियों ने दी सफाई 

उत्तरप्रदेश न्यूज़ डेस्क  स्वरूपरानी नेहरू अस्पताल के कॉर्डियोलॉजी विभाग में पारिवारिक सदस्य को बेडशीट उपलब्ध नहीं कराने पर हाईकोर्ट के जज द्वारा अस्पताल प्रबंधन को तलब किए जाने से हड़कंप मचा है. तीन कर्मचारियों को निलंबित करने के अगले दिन  प्रिंसिपल प्रो. एसपी सिंह, एसआईसी अजय कुमार सक्सेना ने सभी नर्स, वार्ड ब्वाय और दूसरे कर्मचारियों को कड़े निर्देश दिए.

कहा कि वार्डों में भर्ती होने वाले मरीजों की दवा, इंजेक्शन की व्यवस्था चुस्त-दुरुस्त रखी जाए. इसकी जिम्मेदारी ड्यूटी पर तैनात कर्मचारी की होगी. मरीजों की सेवा में लगे कर्मचारी वार्ड सिस्टर इंचार्ज से संपर्क करेंगे और मरीजों के लिए दवा, इंजेक्शन, बेड शीट आदि व्यवस्था लागू करेंगे. प्रिंसिपल और एसआईसी ने वार्ड ब्वाय और नर्स से कहा है कि नए मरीजों के भर्ती होने से पहले चादर जरूर बदला जाए. इसकी रिपोर्ट हर रोज सीआईसी कार्यालय को उपलब्ध करानी होगी.
निलंबित हुए कर्मचारियों में संदीप यादव और अंकित सिंह ने प्रिंसिपल को दिए गए स्पष्टीकरण में कहा कि उन्होंने ड्यूटी के दौरान मरीज की हर संभव सहायता की थी. हैंडओवर में उन्हें मात्र एक ही बेड शीट मिली थी जिसे बेड पर बिछा दिया गया था.
क्या है मामला
हाईकोर्ट के एक जज की धर्म पत्नी शुक्रवार को अपने पारिवारिक सदस्य को एसआरएन अस्पताल के कॉर्डियोलॉजी विभाग में भर्ती किया था. वहां मरीज के बेडशीट बदलने की बात कहने पर कर्मचारियों ने उनसे अभद्रता की थी. मौके पर पहुंचे जज ने अस्पताल प्रबंधन को तलब कर लिया था. इस पर प्रबंधन के अधिकारियों को न्यायाधीश के सामने गिड़गिड़ाकर माफी मांगनी पड़ी थी. इस मामले में अस्पताल प्रबंधन ने  नर्स अंकित सिंह, अमित सिंह और वार्ड ब्वाय अभिषेक मिश्रा को निलंबित कर दिया था. प्रिंसिपल प्रो. एसपी सिंह ने बताया कि घटना सामने आने के बाद सभी कर्मचारियों के लिए कड़े निर्देश जारी किए गए हैं.


इलाहाबाद न्यूज़ डेस्क

Share this story