Samachar Nama
×

Agra  अमेरिकी सचिव की सुरक्षा मे चूक रक्षा मंत्री तक पहुंची
 

Agra  अमेरिकी सचिव की सुरक्षा मे चूक रक्षा मंत्री तक पहुंची


उत्तरप्रदेश न्यूज़ डेस्क  ताजमहल पर लपकों का कॉकस लंबे समय से सक्रिय है. केंद्र से लेकर राज्य सरकार तक लपकों को खदेड़ने के निर्देश जारी कर चुकी है, इसके बाद भी आगरा में लपका अमेरिकी नेवी के सचिव को ताजमहल का दीदार करा ले जाता है. हालांकि फर्जी आईकार्ड से अमेरिकी दल को स्मारक भ्रमण कराने का मामला तूल पकड़ता दिख रहा है. प्रशासनिक अधिकारियों का कहना है कि पर्यटन विभाग से फर्जी आई कार्ड का सत्यापन कर एफआईआर दर्ज कराने के लिए कहा गया है.
टूरिस्ट गाइड वेलफेयर एसोसिएशन के अध्यक्ष दीपक दान ने रक्षा मंत्री को पत्र लिखा है. कहा है कि अति विशिष्ट अतिथियों को ताजमहल का भ्रमण कराने के लिए वीआईपी प्रोटोकॉल के अनुसार एक वरिष्ठ अंग्रेजी भाषी सरकारी लाइसेंस प्राप्त गाइड भी उपलब्ध था. उसके बाद वहां उस समय असमंजस की स्थिति तब पैदा हो गई जब अति विशिष्ट अतिथियों के साथ चल रहे एक व्यक्ति ने वहां अचानक पहुंचे असद आलम खान से अति विशिष्ट अतिथियों के साथ ताजमहल में गाइडिंग करने के लिए चलने को कहा. मौके पर मौजूद एसडीएम नीरज शर्मा ने असद का परिचय पत्र मांगा. जब उन्हें संदेह हुआ तो उन्होंने उसे जाने से रोका, लेकिन अति विशिष्ट अतिथियों के सामने कोई असहज तथा अप्रिय स्थिति न पैदा हो इसलिए उनको अतिथियों के साथ गाइडिंग करने के लिए जाने दिया गया. बाद में ताज में वीआईपी को घुमाए जाने का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया. दान ने रक्षा मंत्री से इस प्रकार की गंभीर सुरक्षा चूक की पुनरावृति रोकने के लिए घटना का संज्ञान लेते हुए जांच के उपरांत पाए जाने वाले दोषियों के विरूद्ध नियमानुसार कार्यवाही करने का अनुरोध किया है.
आरोपी दे रहा सफाई

आरोपी असद आलम खान का कहना है कि उनका 2012 की यूपीटी की लिस्ट में नाम है. इसके सारे कागजात भी उनके पास हैं. इन्हें पुलिस को भी दिखाया है. फर्जी आईकार्ड के सवाल पर गोलमोल जवाब देते हुए कहा कि जिन्होंने उनके साथ प्रशिक्षण लिया है. उन गाइडों से उनकी जानकारी की जा सकती है.
मैंने रक्षा मंत्री को सारे प्रमाण देते हुए पत्र लिखा है. कहा है कि एक चयन प्रक्रिया के बाद किसी व्यक्ति को भारत सरकार और प्रदेश सरकार लाइसेंस जारी करता है. एएसआई के अनुमोदन के बिना ताज में गाइडिंग करना कानून अपराध है. वीआईपी के साथ फर्जी कार्ड के साथ प्रवेश कर उन्हें घुमाना सुरक्षा में चूक है.-दीपक दान, टूरिस्ट गाइड वेलफेयर एसोसिएशन
असद द्वारा पुलिस को ताजमहल जाने के लिए किसी ने कहा था. उससे संबंधित कुछ दस्तावेज दिखाए हैं. इस पर पुलिस ने उसे थाने से जाने दिया. एडीएम प्रोटोकाल ने बताया कि किसकी अनुमति से वह अंदर गया. इसकी जानकारी की जा रही है. पर्यटन विभाग को भी पत्र लिखा जा रहा है.
हिमांशु गौतम, एडीएम प्रोटोकाल


आगरा न्यूज़ डेस्क
 

Share this story