Samachar Nama
×

अमेरिका की तरह भारत में बैंक डूब जाए तो ग्राहकों के पैसों का क्या होगा

;

बिज़नस न्यूज़ डेस्क,अमेरिका में पिछले एक हफ्ते में दो बड़े बैंक दिवालिया हो गए हैं। इन बैंकों के नाम सिलिकॉन वैली क्राइसिस और सिग्नेचर बैंक हैं। दुनिया की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था के दो बड़े बैंकों के दिवालिया होने के बाद लोगों को 2008 की आर्थिक मंदी की याद आ गई है. इसके बैंकिंग संकट का असर पूरी दुनिया में दिख रहा है.स्विट्जरलैंड का क्रेडिट सुइस बैंक संकट भी मुश्किल में पड़ता दिख रहा है। ऐसे में इसका असर भारत में भी दिखाई दे रहा है। बैंकों के शेयरों में भारी दबाव देखा जा रहा है। ऐसे में सबसे बड़ा सवाल यह है कि अगर भारत में कोई बैंक डूबता है तो उसका ग्राहकों पर क्या असर पड़ता है। क्या भारत में ग्राहकों को किसी तरह की बीमा सुविधा मिलती है। आइए जानते हैं इसके बारे में।

एसवीबी के ग्राहकों को बीमा का क्या लाभ होगा?

ज्यादातर स्टार्टअप और टेक कंपनियों को कर्ज देने वाला सिलिकॉन वैली बैंक 10 मार्च को दिवालिया हो गया। इसके बाद बैंक के ग्राहकों और निवेशकों में अफरा-तफरी का माहौल हो गया। लेकिन अमेरिका के फेडरल डिपॉजिट इंश्योरेंस कॉरपोरेशन ने लोगों को यह भरोसा दिलाने की कोशिश की है कि उनका पैसा बैंक में सुरक्षित है.

अमेरिका के एफडीआईसी के नियमों के मुताबिक अगर देश में कोई बैंक डूबता है तो निवेशकों को 2.5 लाख डॉलर यानी करीब 2 करोड़ रुपए तक के बीमा का लाभ मिलता है। वहीं दूसरी ओर इससे अधिक राशि मिलना सरकार के हस्तक्षेप पर ही निर्भर करता है।

भारत में निवेशकों को बीमा कवर भी मिलता है

उल्लेखनीय है कि अमेरिका की तरह भारत में भी बैंक ग्राहकों को बीमा कवर का लाभ मिलता है। इस बीमा कवर के जरिए ग्राहकों को बैंक फेल होने या पैसा निकालने की स्थिति में एक निश्चित रकम मिलनी संभव है।

अमेरिका के एफडीआईसी की तरह भारत में यह काम डीआईसीजीसी (द डिपॉजिट इंश्योरेंस एंड क्रेडिट गारंटी कॉरपोरेशन) करती है। इसके नियमों के मुताबिक बैंक डूबने की स्थिति में ग्राहकों को अधिकतम 5 लाख रुपये की राशि मिल सकती है.

DICGC बीमा की सुविधा किन बैंकों में उपलब्ध है?

भारत में हर वाणिज्यिक बैंक और सहकारी बैंकों के ग्राहकों को DICGC के बीमा कवर का लाभ मिलता है। अगर आप अपने बैंक के बारे में जानकारी लेना चाहते हैं तो बैंक जाकर अधिकारियों से इस बारे में पूछ सकते हैं.

Share this story