Samachar Nama
×

बाजार में खुलेआम बिक रहा है शाओमी का कॉपी सामान, 9000 पायरेटेड प्रोडक्ट जब्त

,

बिज़नेस न्यूज डेस्क - देश भर में ज्यादातर लोग ऑनलाइन सामान खरीदना पसंद कर रहे हैं, लेकिन आपको बता दें कि कुछ प्लेटफॉर्म Xiaomi के नकली सामान बेच रहे हैं। देश में पोर्टेबल इलेक्ट्रॉनिक्स और एक्सेसरीज की भारी मांग है। ऑनलाइन बाजार में कई बड़े ब्रांड के नकली सामान खुलेआम बिक रहे हैं। नकली सामान से कंपनियों के साथ-साथ उपभोक्ताओं को भी भारी नुकसान होता है। कोविड महामारी के कारण, आप ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म पर भी बिक्री कर सकते हैं। उपभोक्ता इलेक्ट्रॉनिक्स फर्म Xiaomi ने 2022 के पहले छह महीनों में अपने नाम से बेचे जाने वाले 9000 नकली उत्पादों को जब्त किया है। इनकी कीमत 73.8 लाख रुपये है। इस साल में कंपनी ने उसके ब्रांड नाम से बेचे जा रहे 33.3 लाख रुपये मूल्‍य के 3,000 प्रोडक्‍ट पुलिस की मदद से जब्‍त किए थे। पायरेटेड उत्पाद अब केवल घरेलू बाजारों में ही आसानी से उपलब्ध हैं। शाओमी इंडिया के प्रेसिडेंट मुरलीकृष्णन बी का कहना है कि कंपनी के पोर्टफोलियो में कई प्रॉडक्ट्स की पायरेसी की जा रही है। 

नकली ईयरफोन, चार्जर, एडेप्टर और यूएसबी केबल ज्यादा बिक रहे हैं। देश के प्रमुख शहरों में ऐसे बाजार हैं जहां से देश भर में नकली उत्पाद भेजे जाते हैं। हरमन, सैमसंग का एक हिस्सा, जो जेबीएल, एकेजी, हरमन कार्डन और इनफिनिटी नामों के तहत स्पीकर और बफर बनाता है, ने इस महीने की शुरुआत में दिल्ली में कई दुकानों और निर्माण इकाइयों से जेबीएल और इनफिनिटी के नकली स्पीकर और बफर भी जब्त किए। TechArc के शोधकर्ता फैसल कावुसा का कहना है कि पहनने योग्य और पहनने योग्य उत्पादों को कॉपी करना बहुत आसान है। इतना ही नहीं इन्हें चीन से आसानी से इम्पोर्ट किया जा सकता है। ऑनलाइन मार्केटप्लेस पर चेकिंग सिस्टम नहीं होने के कारण नकली सामानों की बिक्री भी बढ़ रही है। कोई भी नकली उत्पादों को सूचीबद्ध और बेच सकता है। फेडरेशन ऑफ इंडियन चैंबर्स ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री-सितंबर 2019 की रिपोर्ट के अनुसार, सिर्फ 5 सेक्टरों में नकली और तस्करी के सामान की बिक्री से भारतीय अर्थव्यवस्था को रु। 1.17 ट्रिलियन का नुकसान हो रहा है। इन 5 सेक्टरों में कंज्यूमर इलेक्ट्रॉनिक्स भी शामिल है।

Share this story