Samachar Nama
×

आम आदमी के ल‍िए झटका, चावल की कीमत में आएगी और तेजी; सरकार ने बताया कारण

,

बिज़नेस न्यूज डेस्क - आने वाले समय में चावल की कीमतों में और तेजी आने की संभावना है। खरीफ सीजन में कम पैदावार और गैर-बासमती चावल के निर्यात में 11 की वृद्धि को देखते हुए कीमतों में बढ़ोतरी का रुख आगे भी जारी रह सकता है। यह जानकारी खाद्य मंत्रालय ने दी। मंत्रालय द्वारा दी गई जानकारी में भारत की चावल निर्यात नीति में हालिया सुधारों के पीछे के कारणों के बारे में विस्तार से बताया गया। मंत्रालय ने यह भी कहा कि भारत के चावल निर्यात नियमों में हालिया बदलावों ने निर्यात के लिए उपलब्धता को कम किए बिना "घरेलू कीमतों को नियंत्रण में रखने में मदद की है।सितंबर की शुरुआत में, सरकार ने टूटे चावल के निर्यात पर प्रतिबंध लगा दिया और गैर-बासमती चावल पर 20 प्रतिशत निर्यात शुल्क लगाया। खाद्य मंत्रालय ने एक तथ्य पत्रक में कहा, "घरेलू चावल की कीमतें बढ़ रही हैं और लगभग 6 मिलियन टन के कम धान के उत्पादन और गैर-बासमती चावल के निर्यात में 11 प्रतिशत की वृद्धि का अनुमान लगाने के कारण इसमें वृद्धि जारी रह सकती है।

भारत से निर्यात पर प्रतिबंध चीन में खाद्य संकट पैदा कर सकता है। सरकार के इस फैसले से कीमतों में कमी की उम्मीद थी। लेकिन अब सरकार की ओर से दी गई जानकारी में कीमतों में बढ़ोतरी की संभावना जताई गई है। चीन के बाद भारत चावल का सबसे बड़ा उत्पादक है। वैश्विक बाजार में चावल का भारत का हिस्सा 40 प्रतिशत है। भारत ने वित्त वर्ष 2021-22 में 21.2 मिलियन टन चावल का निर्यात किया है। इसमें 34.9 लाख टन बासमती चावल था। आपको बता दें कि भारत में मौजूदा खरीफ सीजन में धान की फसल का रकबा काफी कम हो गया है। सरकार ने घरेलू बाजार में आपूर्ति बढ़ाने के लिए यह फैसला लिया है।

Share this story