Samachar Nama
×

Personal Loan की किश्तें पड़ रही हैं भारी! दूसरे बैंक में करवा लें ट्रांसफर, कम हो जाएगी EMI; जानें तरीका

.

बिज़नस न्यूज डेस्क - घरेलू जरूरतों को पूरा करने के लिए पर्सनल लोन लेना आजकल आम बात हो गई है। अक्सर ऐसा होता है कि जिस बैंक से हम पर्सनल लोन लेते हैं, कुछ समय बाद हमें ज्यादा ब्याज मिलने लगता है। तो हम नहीं जानते कि क्या करना है। लेकिन अब यह समस्या दूर हो गई है। आप चाहें तो कम ब्याज दर पर अपना पर्सनल लोन बैलेंस दूसरे बैंक में ट्रांसफर कर सकते हैं। इस बारे में विस्तृत जानकारी एचडीएफसी बैंक की वेबसाइट पर दी गई है। बैंक के अनुसार, यदि कोई वित्तीय संस्थान या बैंक आपके खाते पर लागू ब्याज दर से कम दर पर ऋण स्विच या ऋण हस्तांतरण की पेशकश कर रहा है, तो आप इसका लाभ उठा सकते हैं। बैंक के मुताबिक, आपको अपना पर्सनल लोन ट्रांसफर कराने के लिए कुछ औपचारिकताओं से गुजरना पड़ता है। आपको फोरक्लोज़र शुल्क (यदि लागू हो) पर प्रोसेसिंग शुल्क, फोरक्लोज़र शुल्क और स्टाम्प शुल्क का भुगतान करना होगा। इसके बाद आपका लोन दूसरे बैंक में ट्रांसफर हो जाता है और आपके लोन की बची हुई किश्त दूसरे बैंक में ही जमा करनी होती है।

अब बात करते हैं दूसरे बैंक में पर्सनल लोन बैलेंस ट्रांसफर के फायदों के बारे में। बकाया लोन को किसी दूसरे बैंक में ट्रांसफर करने से आपको रीपेमेंट पीरियड में बढ़ोतरी या कमी मिल सकती है। कार्यकाल जितना लंबा होगा, ईएमआई उतनी ही कम होगी लेकिन ब्याज उतना ही अधिक होगा। दूसरी ओर, यदि कार्यकाल छोटा किया जाता है, तो आपको अधिक ईएमआई और कम ब्याज देना होगा। एक और फायदा ब्याज दरें हैं। आमतौर पर कोई व्यक्ति अपना लोन दूसरे बैंक में तभी ट्रांसफर करता है, जब उसकी ब्याज दरें कम होती हैं। ऐसे में अगर आप भी अपना पर्सनल लोन किसी दूसरे बैंक में ट्रांसफर करते हैं तो आपकी ब्याज दरों में भी कमी आएगी और आपको इसका फायदा मिलेगा। तीसरा फायदा यह है कि कई बैंक आपको पर्सनल लोन के पुनर्वित्त के साथ-साथ लोन राशि को टॉप-अप या बढ़ाने की अनुमति देते हैं। वहीं, कई बैंक टॉप-अप के साथ नई ऋण सुविधा प्रदान करते हैं। जिससे आपकी आर्थिक स्थिति मजबूत होती है।

Share this story