Samachar Nama
×

भगवान विष्णु की इस आरती का मनन करने से मिलता है सभी देवी-देवताओं की आरती जितना पुण्य

recite shri vishnu aarti on Thursday lord Vishnu puja 

ज्योतिष न्यूज़ डेस्क: सप्ताह का हर दिन किसी न किसी देवी देवता को समर्पित होता है वही गुरुवार का दिन भगवान श्री हरि विष्णु को समर्पित है इस दिन जगत के पालनहार श्री हरि विष्णु की पूजा करना उत्तम माना जाता है भक्त भगवान विष्णु को प्रसन्न करने के लिए इस दिन विधिवत पूजा करते हैं और व्रत भी रखते हैं

recite shri vishnu aarti on Thursday lord Vishnu puja 

मान्यता है कि किसी भी देवी देवता की व्रत पूजा तब तक पूर्ण नहीं होती है जब तक कि उनकी आरती न पढ़ी जाएं ऐसे में अगर आप भी गुरुवार के दिन व्रत पूजा करते हैं तो भगवान श्री हरि विष्णु की प्रिय आरती का मनन जरूर करें मान्यता है कि इस आरती का पाठ करने से सभी देवी देवताओं की आरती जितना पुण्य फल प्राप्त हो जाता है और सुख समृद्धि आती है, तो आज हम आपके लिए लेकर आए है भगवान विष्णु की आरती। 

recite shri vishnu aarti on Thursday lord Vishnu puja 

ॐ जय जगदीश हरे आरती—  

ॐ जय जगदीश हरे,
स्वामी जय जगदीश हरे ।
भक्त जनों के संकट,
दास जनों के संकट,
क्षण में दूर करे ॥
॥ ॐ जय जगदीश हरे..॥

जो ध्यावे फल पावे,
दुःख बिनसे मन का,
स्वामी दुःख बिनसे मन का ।
सुख सम्पति घर आवे,
सुख सम्पति घर आवे,
कष्ट मिटे तन का ॥
॥ ॐ जय जगदीश हरे..॥

मात पिता तुम मेरे,
शरण गहूं किसकी,
स्वामी शरण गहूं मैं किसकी ।
तुम बिन और न दूजा,
तुम बिन और न दूजा,
आस करूं मैं जिसकी ॥
॥ ॐ जय जगदीश हरे..॥

तुम पूरण परमात्मा,
तुम अन्तर्यामी,
स्वामी तुम अन्तर्यामी ।
पारब्रह्म परमेश्वर,
पारब्रह्म परमेश्वर,
तुम सब के स्वामी ॥
॥ ॐ जय जगदीश हरे..॥

तुम करुणा के सागर,
तुम पालनकर्ता,
स्वामी तुम पालनकर्ता ।
मैं मूरख फलकामी,
मैं सेवक तुम स्वामी,
कृपा करो भर्ता॥
॥ ॐ जय जगदीश हरे..॥

recite shri vishnu aarti on Thursday lord Vishnu puja 

तुम हो एक अगोचर,
सबके प्राणपति,
स्वामी सबके प्राणपति ।
किस विधि मिलूं दयामय,
किस विधि मिलूं दयामय,
तुमको मैं कुमति ॥
॥ ॐ जय जगदीश हरे..॥

दीन-बन्धु दुःख-हर्ता,
ठाकुर तुम मेरे,
स्वामी रक्षक तुम मेरे ।
अपने हाथ उठाओ,
अपने शरण लगाओ,
द्वार पड़ा तेरे ॥
॥ ॐ जय जगदीश हरे..॥

विषय-विकार मिटाओ,
पाप हरो देवा,
स्वमी पाप(कष्ट) हरो देवा ।
श्रद्धा भक्ति बढ़ाओ,
श्रद्धा भक्ति बढ़ाओ,
सन्तन की सेवा ॥

ॐ जय जगदीश हरे,
स्वामी जय जगदीश हरे ।
भक्त जनों के संकट,
दास जनों के संकट,
क्षण में दूर करे ॥

recite shri vishnu aarti on Thursday lord Vishnu puja 

Share this story