Samachar Nama
×

अगर आप भी बना रहे हैं पश्चिम बंगाल घूमने की योजना तो सुंदरबन जाना ना भूले, वरना बाद में होगा पछतावा

अगर आप पश्चिम बंगाल के सुंदरबन जाने की सोच रहे हैं तो यह जानकारी आपके लिए है। सुंदरवन दुनिया का सबसे बड़ा मैंग्रोव वन है.,.......
'''''

ट्रेवल न्यूज़ डेस्क !!! अगर आप पश्चिम बंगाल के सुंदरबन जाने की सोच रहे हैं तो यह जानकारी आपके लिए है। सुंदरवन दुनिया का सबसे बड़ा मैंग्रोव वन है और इसमें रॉयल बंगाल टाइगर भी रहते हैं। यहां की प्राकृतिक सुंदरता और शांतिपूर्ण माहौल मन को सुकून देता है। आज हम आपकी यात्रा को यादगार बनाने के लिए आपको सुंदरवन यात्रा का पूरा प्लान बताएंगे।

सुंदरवन पश्चिम बंगाल का एक खूबसूरत और प्राकृतिक स्थान है। यह दुनिया का सबसे बड़ा डेल्टा और मैंग्रोव वन है। यहां रॉयल बंगाल टाइगर, खारे पानी के मगरमच्छ और कई तरह के पक्षी देखे जा सकते हैं। अगर आपको प्रकृति से प्यार है और रोमांच पसंद है तो सुंदरवन जाएं।
सुंदरवन की यात्रा का सबसे अच्छा समय नवंबर से मार्च के बीच है। इस दौरान मौसम ठंडा और सुहावना होता है, जिससे यात्रा का मजा बढ़ जाता है। यह समय ट्रैकिंग और वन्य जीवन देखने के लिए बिल्कुल उपयुक्त है।

सुंदरवन कोलकाता से लगभग 100 किलोमीटर दूर है। आप कोलकाता से ट्रेन, बस या टैक्सी से गोसाबा या साजनखेड़ा जा सकते हैं। वहां से आप बोट सफारी के जरिए सुंदरवन जा सकते हैं। कोलकाता से गोसाबा और काकद्वीप तक कई ट्रेनें चलती हैं। वहां से नाव द्वारा सुंदरवन पहुंचा जा सकता है। कोलकाता से सुंदरबन के लिए बसें और टैक्सियाँ भी उपलब्ध हैं।

सुंदरबन में कई रिसॉर्ट और होटल हैं जहां आप रुक सकते हैं। नदी किनारे के रिसॉर्ट्स सुंदर दृश्य प्रस्तुत करते हैं। पहले से बुकिंग कराना बेहतर होगा.

बोट सफारी: सुंदरबन का सबसे बड़ा आकर्षण बोट सफारी है। नाव में बैठकर आप जंगल में घूम सकते हैं और रॉयल बंगाल टाइगर, मगरमच्छ और पक्षियों को देख सकते हैं।
नेचर वॉक: सुंदरबन में नेचर वॉक का आनंद लें। यहां की हरियाली और शांत वातावरण मन को सुकून देता है।
वॉच टावर: सुंदरबन में कई वॉच टावर हैं जहां से जंगल का नजारा देखा जा सकता है। साजनखेड़ा और दोबांकी वॉच टावर प्रमुख हैं।
स्थानीय संस्कृति: सुंदरवन के गांवों में जाकर स्थानीय संस्कृति और जीवनशैली को देखा जा सकता है।
सुरक्षा: सुंदरवन एक जंगल है, इसलिए गाइड की सलाह का पालन करें और अकेले न घूमें।
मौसम: मौसम के अनुसार कपड़े और सामान ले जाएं। बरसात के मौसम में यहां यात्रा करना कठिन हो सकता है।
चश्मा और सनस्क्रीन: बोट सफारी के दौरान धूप का चश्मा और सनस्क्रीन का प्रयोग करें।

Share this story

Tags