×

Rajasthan Politics: राजस्थान में जारी है राजनीतिक भूचाल, अब निर्दलीय एवं बीएसपी से कांग्रेस में आए विधायक बनाएंगे संयुक्त मोर्चा

Rajasthan Politics: राजस्थान में जारी है राजनीतिक भूचाल, अब निर्दलीय एवं बीएसपी से कांग्रेस में आए विधायक बनाएंगे संयुक्त मोर्चा

जयपुर डेस्क। राजस्थान में पिछले 2 हफ्तों से सियासी उठापटक लगातार देखने को मिल रही है, यह उठापटक कांग्रेस पार्टी से शुरू हुई जहां पर पूर्व में रह चुके उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट आलाकमान एवं कांग्रेस पार्टी के शीर्ष नेताओं से अपनी नाराजगी जताते हुए दिल्ली के दौरे लगाने लगे थे। जिसके बाद अटकलें लगाई जाने लगी थी कि वह कभी भी कांग्रेस पार्टी छोड़कर सिंधिया और अन्य नेताओं की राह पर चलकर भाजपा में शामिल हो सकते हैं।

Rajasthan Politics: राजस्थान में जारी है राजनीतिक भूचाल, अब निर्दलीय एवं बीएसपी से कांग्रेस में आए विधायक बनाएंगे संयुक्त मोर्चा

वहीं इसके बाद यह उथल पथल भारतीय जनता पार्टी में भी पहुंच गई जहां पर वसुंधरा राजे को वापस पार्टी में सक्रिय करने की मांग कुछ कार्यकर्ता उठाने लगे जिसके बाद भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया को यह बयान देकर कहना पड़ा कि कि किसी भी नेता से बड़ा कोई नहीं पार्टी सर्वोपरि होती है। अब खबर है कि इन सभी उठापटक के बीच में कुछ निर्दलीय विधायक और बसपा के विधायक जो कांग्रेस के समर्थन में थे वह अब संयुक्त मोर्चा बना सकते हैं।

Rajasthan Politics: राजस्थान में जारी है राजनीतिक भूचाल, अब निर्दलीय एवं बीएसपी से कांग्रेस में आए विधायक बनाएंगे संयुक्त मोर्चा

वही राजनीतिक पंडितों की मानें तो बताया जा रहा है कि सचिन पायलट के खेमे को कमजोर करने के लिए ऐसा किया जा रहा है जिसके चलते निर्दलीय और बहुजन समाज पार्टी से आए विधायक एक साथ मिलकर रणनीति तैयार करेंगे और एक संयुक्त मोर्चे की तैयारी करेंगे जिसके लिए इसी महीने की 23 तारीख को बैठक भी होनी है।

जिस तरह से राजस्थान में इस समय सियासी हालात बने हुए हैं उसे लेकर यह रणनीति एक बहुत अहम रोल आगे निभा सकती है और समझा जा रहा है कि यह बैठक कांग्रेस आलाकमान के दबाव पर गहलोत कैंप का एक नया पैंतरा भी हो सकता है।Rajasthan Politics: राजस्थान में जारी है राजनीतिक भूचाल, अब निर्दलीय एवं बीएसपी से कांग्रेस में आए विधायक बनाएंगे संयुक्त मोर्चा

गहलोत राजनीति के जादूगर माने जाते हैं और राजस्थान की राजनीति पर अपनी एक खास पकड़ रखते हैं तो ऐसे में पायलट खेमे के लिए गहलोत को हरा पाना थोड़ा सा मुश्किल साबित होता है।

Share this story