India की IAS-IPS की फैक्ट्री है यह गांव

हर घर में पैदा होते हैं IAS-IPS

उत्तर प्रदेश का गांव

उत्तर प्रदेश में एक ऐसा गांव है, जिसे IAS-IPS की फैक्ट्री कहा जाता है।

दर्जनों IAS और IPS अधिकारी

इस गांव ने देश को दर्जनों आईएएस और आईपीएस अधिकारी दिए हैं। इस गांव के लोग देशभर में बड़े-बड़े पदों पर तैनात रहे हैं।

जौनपुर का माधोपट्टी गांव

उत्तर प्रदेश के जौनपुर जिले के माधोपट्टी गांव ने देश को दर्जनों IAS-IPS और PCS अधिकारी दिए हैं।

महिलाएंं भी अधिकारी

इस गांव ने न सिर्फ देश को पुरुष अधिकारी दिए हैं, बल्कि गांव की महिलाएं भी बड़े पदों पर तैनात हैं।

गांव के हर घर से अधिकारी

माधोपट्टी गांव के लगभग हर घर से कोई न कोई अधिकारी जरूर है।

अफसरों वाला गांव

75 घरों वाला यह गांव पूरे देश में 'अफसरोंं वाले गांव' के नाम से जाना जाता है।

बड़ा होकर अधिकारी ही बनता है बच्चा

कहा जाता है कि इस गांव में जन्म लेने वाले बच्चे का भविष्य पहले से ही तय हो जाता है। वह बड़ा होकर कोई न कोई अधिकारी ही बनता है।

अंग्रेजों के जमाने से अधिकारी बनने की लगन

बताया जाता है कि अंग्रेजों के जमाने से ही इस गांव के युवा सरकारी नौकरियों में जाने का प्रयास करते रहे हैं।

इन्दू प्रकाश सिंह थे पहले IAS

इस गांव के पहले IAS अधिकारी इन्दू प्रकाश सिंह थे। साल 1952 में उनकी ऑल इंडिया रैंक 13 आई थी। इसके बाद गांव के युवाओं में IAS-PCS बनने की जैसे होड़ लग गई।