India का वो राजा जो पहनता था सोने के तार से बने कपड़े

खजाने में था इतना बड़ा हीरा

हीरे-जवाहरात के शौकीन थे महाराजा

कहते हैं शौक बड़ी चीज है। कई लोग अपने शौक को पूरा करने के लिए कड़ी मेहनत करते हैं, तो कुछ बेशुमार दौलत खर्च करते हैं। आज हम आपको एक ऐसे ही महाराज से मिलवाने जा रहे हैं, जो हीरे-जवाहरात के काफी शौकीन थे। इतना ही नहीं वो सोने के तार से बने कपड़े पहनते थे।

सोने के तार से बुनी जाती थी पोशाक

बड़ौदा के महाराज गायकवाड़ हीरे-जवाहरात के काफी शौकीन थे। दरबार में जो पोशाक पहनकर महाराज आते ते वो सोने के तार की बुनी होती थी।

एक ही परिवार बनाता था पोशाक

सोने की तार से महाराज का पोशाक बुनने के लिए रियासत में एक परिवार को चुना गया था।

नाखूनों को लंबा करने का आदेश

महाराज का आदेश था कि परिवार के सदस्य अपने नाखूनों को इतना लंबा करे, जिसमें कंघियों जैसे दांत बनाए जा सके।

इस तरह तैयार होता था पोशाक

परिवार के लोग कंघी की तरह हो चुके अपने नाखूनों से सोने के तार का ताना बाना बनाते थे और महाराजा के लिए पोशाक तैयार करते थे।

महाराजा के पास दुनिया का सातवां बड़ा परिवार

बड़ौदा के महाराजा के पास दुनिया का सातवां सबसे बड़ा हीरा सितार-ए-दकन था।

काफी शौकीन थे महाराजा

उनके पास वह हीरा भी था जो फ्रांस के बादशाह नेपोलियन तृतीय ने अपनी प्रेमिका यूजीन को दिया था।

बहुमूल्य परदे भी थे

उनके रत्न भंडार का सबसे बहुमूल्य चीज वह परदे थें, जिन पर लाल और हरे जवाहरात से खूबसूरत बेल-बूटे बने हुए थे।

सुर्खियों में रहते थे महाराजा

रईसी को लेकर महाराजा का नाम काफी सुर्खियों में रहता था।