×

क्या आप जानते है धरती पर मौजूर इस नरक के दरवाजे के बारे में, यहां पर जो भी अंदर गया वो कभी  बाहर नहीं आया

क्या आप जानते है धरती पर मौजूर इस नरक के दरवाजे के बारे में, यहां पर जो भी अंदर गया वो कभी  बाहर नहीं आया

लाइफस्टाइल न्यूज डेस्क।। हमेशा से लोगों के दिमाग में स्वर्ग और नरक को लेकर कई सवाल रहते हैं। माना जाता है कि इंसान के मरने के बाद उसकी आत्मा स्वर्ग या नरक में जाती है. ऐसे में कई लोगों का ये भी मानना है कि इस धरती पर भी नरक का दरवाजा मौजूद है वहां से कोई वापस नहीं आता। इसी के चलते आज हम धरती पर मौजूद एक ऐसे स्थान के बारे में बताने जा रहे हैं जिसे धरती पर 'नरक का द्वार' माना जाता है. यह जगह तुर्की के प्राचीन शहर हेरापोलिस में एक बहुत ही पुराना मंदिर स्थित है, जिसे लोग नर्क का द्वार मानते हैं।

ऐसा कहा जाता है कि इस मंदिर के संपर्क में आते ही इंसान से लेकर पशु-पक्षी तक मर जाते हैं. बता दें कि कई सालों तक हेरापोलिस में स्थित यह जगह रहस्यमय बनी हुई थी. इस मंदिर के अंदर जाना तो दूर की बात है लोग आसपास भी जाने जने से भी कतराते हैं ऐसा कहा जाता है कि इस मंदिर के पास या अंदर जाने वाला कभी वापस लौटकर नहीं आता. क्योंकि लोगों का ऐसा मानना था कि यूनानी देवता की जहरीली सांसों की वजह से यहां आने वालों की मौत हो रही है. जब यहां लगातार लोगों और जानवरों की मौतें हुई तो इस मंदिर को लोगों ने 'नर्क का द्वार' नाम दे दिया.

क्या आप जानते है धरती पर मौजूर इस नरक के दरवाजे के बारे में, यहां पर जो भी अंदर गया वो कभी  बाहर नहीं आया

वैज्ञानिकों के मुताबिक, इस मंदिर के नीचे से लगातार जहरीली कार्बन डाई ऑक्साइड गैस रिसकर बाहर निकल रही है, जिसके संपर्क में आते ही इंसानों और पशु-पक्षियों की मौत हो जाती है. वैज्ञानिकों के द्वारा किए गए शोध में यह बात सामने आई कि मंदिर के नीचे बनी गुफा में बहुत बड़ी मात्रा में कार्बन डाई ऑक्साइड गैस मौजूद है. ऐसा भी कहा जाता है कि ग्रीक, रोमन काल में भी लोग मौत के डर की वजह से यहां जाने से डरते थे. हालांकि, वैज्ञानिकों ने लगातार हो रही मौत की गुत्थी सुलझा ली है. बता दें कि मात्र 10 फीसदी कार्बन डाइ ऑक्साइड गैस किसी भी इंसान को 30 मिनट के अंदर मौत की नींद सुला सकती है.
 

Share this story