Samachar Nama
×

भारत में इन जगहों पर जाने के लिए आपको लेना होगा परमिट, जानें वजहें

;
ट्रेवल न्यूज़ डेस्क, अक्सर आपने सुना होगा कि विदेश जाने के लिए वीजा लेना पड़ता है। बिना वीजा के विदेश नहीं जा सकते। लेकिन क्या आप जानते हैं कि हमारे देश यानी भारत में भी कुछ ऐसी जगहें हैं, जहां आप बिना परमिट के नहीं घूम सकते। यकीन नहीं होता तो ये खबर आपके लिए है। ये ऐसी जगहें हैं जहां अगर आप जाना चाहते हैं तो आपको अधिकृत निकाय से अनुमति लेनी होगी। आज हम आपको इसके पीछे की वजह और उन जगहों के बारे में बताने जा रहे हैं जहां जाने के लिए परमिट लेना पड़ता है...
 
आपको परमिट की आवश्यकता क्यों है
 
भारत के इन स्थानों पर जाने के लिए आवश्यक इस अनुमति को इनर लाइन अनुमति कहा जाता है। जानकारी के मुताबिक इन जगहों से अंतरराष्ट्रीय सीमा गुजरती है। इसलिए इन जगहों पर जाने के लिए अनुमति लेनी पड़ती है। इस अनुमति की मदद से संबंधित सुरक्षा अधिकारियों को आपके नियोजित आंदोलन के बारे में पता चल जाता है। साथ ही कुछ स्थान ऐसे भी हैं जहां कोई बाहरी व्यक्ति नहीं जा सकता है। आदिवासी संस्कृति को किसी भी तरह से सुरक्षित रखने के लिए उन जगहों पर कोई नहीं जा सकता। इन जगहों पर आदिवासी संस्कृति, सभ्यताओं, तौर-तरीकों आदि से जुड़े लोग सुरक्षित रहते हैं।
 
1. अरुणाचल प्रदेश
 
अरुणाचल प्रदेश में कई जगहों पर जाने के लिए ये परमिट यानी इनर लाइन परमिट लेना जरूरी होता है. इन जगहों में ईटानगर, तवांग, रोइंग, पासीघाट, भालुकपोंग, बोमडिला, जीरो आदि शामिल हैं। भूटान, म्यांमार और चीन की सीमा से जुड़ा यह राज्य सुरक्षा की दृष्टि से बेहद संवेदनशील माना जाता है। यहां इनर लाइन परमिट लेने के लिए आपको अपना पहचान पत्र, एक पासपोर्ट साइज फोटो और 100 रुपए देने होते हैं। यह परमिट सिर्फ 30 दिनों के लिए वैध होता है।
 
2. लक्षद्वीप
 
यह केंद्र शासित प्रदेश अपने खूबसूरत बीचों की वजह से पूरी दुनिया में मशहूर है। हर साल बड़ी संख्या में लोग यहां घूमने के लिए जाते हैं। यहां कुल 36 द्वीप हैं। हालांकि अभी तक सिर्फ 10 द्वीपों का ही भ्रमण किया जा सकता है। यहां के द्वीपों पर जाने के लिए भी आपको अनुमति लेनी होगी। यहां इनर लाइन परमिशन लेने के लिए आपको कोई एक पहचान पत्र, पासपोर्ट साइज फोटो और 50 रुपये देने होंगे।
 
3. नागालैंड
 
नागालैंड की खूबसूरती को देखकर हर साल हजारों पर्यटक घूमने आते हैं। लेकिन, आपको नागालैंड में कोहिमा, मोकोकचुंग, वोखा, दीमापुर, मोन, किफिर आदि घूमने के लिए परमिट की जरूरत होती है। परमिट होना चाहिए। इसके बाद ही आप इन जगहों के खूबसूरत नजारों का लुत्फ उठा पाएंगे। यहां परमिट लेने के लिए आपको पहचान पत्र, पासपोर्ट साइज फोटो और 50 रुपये देने होंगे। यहां 5 दिन का परमिट 50 रुपये और 30 दिन का परमिट 100 रुपये में मिल जाता है।
 
4. लद्दाख
 
लद्दाख में एलओसी के पास कुछ जगहों पर जाने के लिए आपको परमिट की जरूरत होती है। इन जगहों में नुब्रा वैली, त्सो मोरीरी लेक, खारदुंग ला पास, दाह, हनु गांव, पैंगोंग त्सो लेक, न्योमा, टोर्टुक, तंगयार, डिगर ला जैसी खूबसूरत जगहें शामिल हैं। यहां इनर लाइन परमिट लेने के लिए आपको खुद भुगतान करना होगा। -राष्ट्रीयता प्रमाण की सत्यापित प्रति और 30 रुपये। यह परमिट केवल एक दिन के लिए वैध होता है।
 
5. मिजोरम
 
बांग्लादेश और म्यांमार की सीमा के पास स्थित मिजोरम भी पर्यटकों के बीच काफी लोकप्रिय है। लेकिन यहां घूमने के लिए भी परमिट लेना जरूरी होता है। यहां घूमने का परमिट लेने के लिए आपको एक पहचान पत्र, पासपोर्ट साइज फोटो और 120 रुपये देने होंगे। यहां 220 रुपये देकर परमानेंट इनर लाइन परमिट भी बनवाया जा सकता है।
 
7. सिक्किम
 
बिना परमिट के सिक्किम की त्सोंग्मो झील, गोइचला ट्रैक, नाथुला, युमथांग, गुरुडोंगमार झील जैसी शानदार जगहों पर कोई नहीं जा सकता। इन बेहद दिलचस्प जगहों पर जाने के लिए आपको इनर लाइन परमिट लेना होगा। हालांकि, यहां परमिट बिना किसी शुल्क के यानी मुफ्त में दिया जाता है।

Share this story