Samachar Nama
×

परिवार के साथ जाएंगे तो इस जगह से हो जाएगा प्यार, बद्रीनाथ के इन दर्शनीय स्थलों का जरूर करें दीदार

;
ट्रेवल न्यूज़ डेस्क, चार धामों में से एक बद्रीनाथ हमेशा पर्यटकों के आकर्षण का केंद्र बना रहता है। लोग अक्सर अपने साथी के साथ बद्रीनाथ जी के दर्शन करने जाते हैं। अगर आप भी अपने पार्टनर को बद्रीनाथ ले जाने का प्लान कर रहे हैं तो दर्शन के बाद इन पर्यटन स्थलों को जरूर देखें। यहां की प्राकृतिक खूबसूरती और खूबसूरत रंग इतने शानदार हैं कि पार्टनर का दिल खुश हो जाएगा। आइए जानते हैं इन जगहों के बारे में।
 
बद्रीनाथ मंदिर
भगवान विष्णु को समर्पित इस मंदिर की स्थापना शंकराचार्य ने की थी। बद्रीनाथ जाने का सबसे अच्छा समय मई से जुलाई की शुरुआत तक है। देहरादून से यहां के लिए हेलीकाप्टर भी बुक किया जा सकता है। यहां प्रकृति के मनमोहक दृश्य और भगवान के दर्शन दोनों ही मिलते हैं। मंदिर में जाने का कोई शुल्क नहीं है। मंदिर में दर्शन सुबह 4:30 बजे से दोपहर 1 बजे तक और फिर शाम को 4:30 बजे से रात 9 बजे तक किए जा सकते हैं।
 
कदम पैड
बद्रीनाथ से लगभग 3 किलोमीटर दूर नारायण पर्वत पर चरणपादुका है। मान्यता है कि यहां की चट्टान पर भगवान विष्णु के पैरों के निशान हैं। यहां के स्थानीय लोगों के अनुसार चरणपादुका में जाकर वहां भगवान विष्णु के पदचिन्हों के दर्शन करने से ही कई रोग दूर हो सकते हैं। यहां भी आपको अपने पार्टनर के साथ नेचर के बीच एडवेंचर का मौका मिल सकता है। यहां सुबह 6 बजे से शाम 5:30 बजे तक जाया जा सकता है।
 
नीलकंठ शिखर
अपने साथी को रोमांचक यात्रा पर ले जाने के लिए आप यहां से शुरुआत कर सकते हैं। नीलकंठ शिखर उत्तराखंड के गढ़वाल मंडल की एक प्रमुख चोटी के रूप में जाना जाता है। यहां ट्रैक काफी सीधा है जो अचानक बदल जाता है। इसलिए यहां बहुत संभलकर चलना पड़ता है। जुलाई से सितंबर के बीच यहां आना सबसे अच्छा रहता है। यहां आप पथ की शोभा बढ़ाने वाले ब्रह्मकमल के फूल भी देख सकते हैं।
 
वसुधारा फॉल
वसुधारा जलप्रपात बद्रीनाथ से लगभग 9 किमी दूर माणा गाँव में स्थित है। 12,000 फीट की ऊंचाई से गिरता पानी ऐसा अहसास है जिसे शब्दों में बयान नहीं किया जा सकता। पौराणिक मान्यताओं के अनुसार पांडवों ने यहां विश्राम किया था। यहां ट्रैक के रास्ते में काफी सावधानी बरतनी पड़ती है।
 
व्यास गुफा
व्यास गुफा माणा गांव के पास मौजूद है। यह अत्यंत पवित्र स्थान माना जाता है। ऐसा माना जाता है कि ऋषि व्यास ने भगवान गणेश के साथ महाभारत की रचना इसी स्थान पर की थी। बद्रीनाथ की यात्रा के दौरान इस जगह की यात्रा करना न भूलें। इसके अलावा अपने साथी को माता मूर्ति मंदिर, घंटाकर्ण मंदिर, भीम पुल, मुचकुंद गुफा, गणेश गुफा भी ले जाया जा सकता है। आपका सफर हमेशा के लिए यादगार बन जाएगा।

Share this story