Samachar Nama
×

Uttarakhand रिजॉर्ट में पानी भरा, 150 पर्यटकों का रेस्क्यू, बारिश व भूस्खलन में 2 दर्जन लोग लापता

Uttarakhand रिजॉर्ट में पानी भरा, 150 पर्यटकों का रेस्क्यू, बारिश व भूस्खलन में 2 दर्जन लोग लापता
उत्तराखंड न्यूज डेस्क !!! देश के पहाड़ी राज्य उत्तराखंड में हो रही लगातार तेज बारिश से यहां जनजीवन अस्त व्यस्त हो गया है। मौसम की मार पर्यटकों पर भी पड़ी है। नैनीताल का सड़क संपर्क बाकी क्षेत्रों से कट गया है। उत्तराखंड जिम कॉर्बेट के समीप रामनगर के कई रिजॉर्टस में पानी भर गया। यहां लेमन ट्री नामक एक रिजॉर्ट में फंसे करीब 150 पर्यटकों को रेस्क्यू टीम ने सुरक्षित निकाला है।

रामनगर में कोसी नदी के खतरे के निशान से ऊपर बह रही है। यहां मोहान और ढिकुली इलाके के कई रिजॉर्टस में पानी भर गया है। मोहान स्थित लेमन ट्री रिजॉर्ट से प्रशासन ने घंटों की मशक्कत के बाद 150 पर्यटकों को सुरक्षित निकाला है।

स्थानीय एसडीएम गौरव चटवाल के मुताबिक ट्रैक्टर ट्रॉली और रेस्क्यू टीम की मदद से रिजॉर्ट में फंसे लोगों को बाहर निकाला गया है। रिजॉर्ट से निकाले गए ज्यादातर पर्यटक निजी वाहनों व टैक्सी लेकर अपने घरों को लौट गए। जो पर्यटक अभी वापस नहीं लौट सके हैं उन्हें सुरक्षित होटलों में ठहराया गया है। वहीं पुछड़ी और मालधन में भी पानी और मलबे से लोगों को बचाने के लिए रेस्क्यू आपरेशन चलाया गया है।

उधर नैनीताल जिले के रामगढ़ ब्लॉक के एक गांव में मकान जमींदोज होने की खबर है। यहां नौ व्यक्ति लापता हैं। भीमताल में मकान ढहने से एक बच्चा मलबे में दब गया है। अल्मोड़ा जिले में एक मकान पर पहाड़ी से मलबा आने के कारण तीन लोग दब गए हैं।

उतराखंड के नैनीताल, हल्द्वानी, काठगोदाम, रानीखेत, पौड़ी, लैंसडाउन, चमोली आदि क्षेत्रों में भी बीते तीन दिन से लगातार तेज बारिश हो रही। काठगोदाम में तो तेज बारिश के कारण रेलवे ट्रैक की पटरी भी उखाड़ गई। रेलवे ट्रैक की पटरी बह कर नदी किनारे लग गई। राज्य में बारिश एवं भूस्खलन के बाद करीब 2 दर्जन लोग लापता हैं।

जिलाधिकारी रूद्रप्रयाग ने जानकारी दी कि श्री केदारनाथ में कुल 06 हजार श्रद्धालु थे। इनमें से चार हजार वापस आ गये हैं। शेष 02 हजार सुरक्षित स्थानों पर है। अतिवृष्टि से प्रभावित क्षेत्रों में सेना से तीन हेलीकॉप्टर लगाये गए हैं। जिलाधिकारी चमोली एवं रुद्रप्रयाग को निर्देश दिए गए हैं कि यात्रा मार्गों पर फंसे यात्रियों की सुरक्षा का विशेष ध्यान रखा जाए।

सीएम पुष्कर सिंह धामी ने रुद्रप्रयाग में जिलाधिकारी रुद्रप्रयाग से जिले की स्थिति व यात्रा की जानकारी ली है। अतिवृष्टि प्रभावित क्षेत्रों का हवाई सर्वेक्षण कर स्थिति का जायजा लिया है। आपदा प्रबंधन मंत्री डॉ धनसिंह रावत व डीजीपी अशोक कुमार भी उनके साथ थे।

जिलाधिकारी पौड़ी के मुताबिक तहसील लैंसडाउन के क्षेत्रान्तर्गत छप्पर गिरने से 03 लोगों की मृत्यु हो गई, जबकि 02 लोग घायल हो गये थे। घायलों को हायर सेंटर रेफर किया गया है। रूद्रप्रयाग में एक व्यक्ति की मृत्यु हुई है। उत्तराखंड के कई अन्य स्थानों पर पर्यटकों के भी फंसे होने की सूचना है। पर्यटकों को सुरक्षित निकालने के लिए जिला अधिकारियों को निर्देश दिए गए हैं। मंगलवार शाम उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी नैनीताल ने जिले के आपदाग्रस्त क्षेत्रों का निरीक्षण किया।

वहीं तेज बारिश और तूफान के कारण नैनीताल जिले के कई हिस्से सड़क यातायात से पूरी तरह कट गए हैं। अत्यधिक बारिश के कारण उत्तराखंड स्थित काठगोदाम के गोलापार इलाके में सड़क मार्ग टूटकर नदी में बह गया। काठगोदाम में ट्रेनों का आवागमन भी प्रभावित हुआ है। कई ट्रेनों को स्थगित करना पड़ा है। जबकि कई ट्रेनों को शार्ट टर्मिनेट कर दिया गया है। वहीं रानीखेत को सड़क परिवहन से जोड़ने वाले एक मुख्य पुल के ऊपर तक नदी का पानी पहुंच गया, जिससे यहां यातायात व्यवस्था ठप हो गई।

मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को निर्देश दिये कि यह सुनिश्चित किया जाय कि बारिश के कारण यदि कोई राजमार्ग बाधित होता है, तो उनमें आवगमन जल्द सुचाररू करने के लिए पूरी व्यवस्था हो। जिन क्षेत्रों में अधिक वर्षा हो रही हैं, वहां विशेष सतर्कता बरती जाय। मुख्यमंत्री सुबह से सभी जिलाधिकारियों से अपडेट ले रहे हैं।

--आईएएनएस

जीसीबी/एएनएम

Share this story