×

Haridwar  आबकारी निरीक्षक के कार्यालय पहुंचे एसडीएम से अभद्रता

Haridwar  आबकारी निरीक्षक के कार्यालय पहुंचे एसडीएम से अभद्रता

उत्तराखंड न्यूज़ डेस्क !!! लक्सर में तैनात आबकारी निरीक्षक शिव प्रसाद व्यास का एक वीडियो इंटरनेट मीडिया पर वायरल हो रहा है। बुधवार को एसडीएम वैभव गुप्ता वायरल वीडियो की सत्यता जांचने के लिए आबकारी निरीक्षक के कार्यालय पहुंचे। इस दौरान उन्होंने आबकारी निरीक्षक को कर्मचारियों की उपस्थिति का रजिस्टर और कार्यालय से संबंधित दस्तावेज दिखाने को कहा। आबकारी निरीक्षक ने दस्तावेज दिखाने और वायरल वीडियो के बारे में बात करने से इनकार कर दिया। इतना ही नहीं आबकारी निरीक्षक के कार्यालय का ताला बंद कर वह वहां से चला गया। एसडीएम ने मामले की जानकारी जिलाधिकारी को फोन पर दी।

एसडीएम वैभव गुप्ता ने बताया कि वायरल हो रहे वीडियो और आबकारी विभाग में गड़बड़ी की शिकायत का निरीक्षण करने के लिए वह आबकारी निरीक्षक कार्यालय पहुंचे थे। आबकारी निरीक्षक ने उन्हें बताया कि उनके पास अधिकार नहीं है। वह विभागीय अधिकारियों की अनुमति से ही निरीक्षण कर सकता है। एसडीएम वैभव गुप्ता ने बताया कि आबकारी निरीक्षक ने उनके और टीम में शामिल अधिकारियों से बदसलूकी की। उनका व्यवहार अनुशासनहीनता में आता है। उसके खिलाफ विभागीय कार्रवाई की अनुशंसा जिलाधिकारी को की गई है। इसके अलावा उनके अभद्र व्यवहार को लेकर पुलिस में शिकायत भी दी जा रही है।  आबकारी निरीक्षक शिव प्रसाद व्यास का कहना है कि उन्होंने कार्यालय में अकेले होने के कारण गुरुवार को निरीक्षण की बात कही थी। अभद्रता का आरोप झूठा है। आबकारी निरीक्षक का वीडियो वायरल होने के मामले में एक शराब कारोबारी सामने आया है। व्यवसायी ने वीडियो को एडिट करने का आरोप लगाया है। वहीं, आबकारी निरीक्षक ने यह भी कहा है कि पैसे के लेन-देन से इनकार करते हुए साजिश के तहत वीडियो वायरल हुआ है। 

वायरल वीडियो में पैसों के लेन-देन के अलावा शराब की दुकानों पर बिक्री दिखाने की बात कही जा रही है। यह वीडियो शराब दुकान संचालक और आबकारी निरीक्षक के बीच हुई बैठक के दौरान बनाया गया है। शराब कारोबारी का कहना है कि वीडियो में उनकी आवाज को एडिट किया गया है। उसका इस वीडियो से कोई लेना-देना नहीं है। उसे और आबकारी निरीक्षक को बदनाम करने के लिए शरारती तत्वों ने वीडियो वायरल कर दिया है। वहीं, आबकारी निरीक्षक शिव प्रसाद व्यास ने कहा कि शराब माफिया के खिलाफ कार्रवाई को लेकर दुश्मनी के चलते उन्हें बदनाम करने के लिए वीडियो वायरल किया गया है। वीडियो संपादित किया गया है। उन्होंने अपने ऊपर लगे आरोपों को बेबुनियाद बताया है।

हरिद्वार न्यूज़ डेस्क  !!!
 

Share this story