×

Nainital  ऊधमसिंह नगर सीएमओ कार्यालय से कर्मचारियों के शैक्षणिक अभिलेख गायब

Nainital  ऊधमसिंह नगर सीएमओ कार्यालय से कर्मचारियों के शैक्षणिक अभिलेख गायब

उत्तराखंड न्यूज़ डेस्क !!! सीएमओ कार्यालय में कर्मचारियों की कार्यशैली सवालों के घेरे में आ गई है। इधर कार्यालय में एनएचएम बोर्ड से करीब सात कर्मियों के शैक्षणिक रिकॉर्ड गायब हो गए। इसकी जानकारी मिलते ही सीएमओ की ओर से 11 अक्टूबर तक जोन विदहोल्डिंग बोनस की चेतावनी के बीच शैक्षणिक अभिलेख कार्यालय में उपलब्ध कराने के निर्देश जारी किए गए। इस बीच पीसीपीएनडीटी प्रकोष्ठ के जिला समन्वयक ने अभिलेखों की मांग पर कड़ी आपत्ति जताते हुए सीएमओ को शिकायत पत्र लिखकर अभिलेख देने से इंकार कर दिया है। पत्र में समन्वयक ने कहा कि अगर गार्ड की फाइल से रिकॉर्ड गुम हो जाए तो इसकी सूचना संबंधित थाने में दें। अभिलेख मांगने का कोई औचित्य नहीं है। पत्र के बाद सीएमओ कार्यालय में हड़कंप मच गया है।

इस बार सरकार ने एनएचएम में पिछले साढ़े तीन साल से लगातार काम कर रहे संविदा कर्मचारियों को लॉयल्टी बोनस देने का फरमान जारी किया है। विभागीय सूत्रों के अनुसार जिले के अन्य प्रखंडों में एनएचएम के संविदा कर्मचारियों को भी लॉयल्टी बोनस मिला है। लेकिन सीएमओ कार्यालय में कार्यरत एनएचएम कर्मियों को बोनस नहीं मिला है। इसके पीछे निजी फाइल में 15 से अधिक कर्मियों के शैक्षिक रिकॉर्ड गायब होने की बात कही जा रही है। सीएमओ डॉ. देवेंद्र सिंह पंचपाल को जैसे ही डाटा मैनेजर से सूचना मिली, उनकी ओर से पत्र जारी किया गया। जिसमें निर्देश दिए गए थे कि सभी कार्मिक 11 अक्टूबर तक अपने अभिलेख कार्यालय में उपलब्ध करा दें। अन्यथा उनका रॉयल्टी बोनस रोक लिया जाएगा। सीएमओ द्वारा जारी पत्र में सात संविदा कर्मचारियों के नाम शामिल किए गए हैं, जिनका रिकॉर्ड निजी फाइल में नहीं है। पीसीपीएनडीटी के जिला समन्वयक प्रदीप मेहर के नाम शामिल हैं।

एनएचएम में पीसीपीएनडीटी के जिला समन्वयक प्रदीप मेहर ने शैक्षणिक रिकॉर्ड की मांग को लेकर कड़ा विरोध दर्ज कराया है। सीएमओ डॉ. देवेंद्र सिंह पंचपाल को संबोधित शिकायत पत्र में मेहर ने कहा कि पूर्व में भी राज्य मुख्यालय को शैक्षणिक रिकॉर्ड की मांग पर उन्हें कई बार कार्यालय उपलब्ध कराया जा चुका है। रिकॉर्ड मांगना गंभीर मामला है। यदि संबंधित टेबल से अभिलेख गायब हो गए हैं तो संबंधित थाने में प्राथमिकी दर्ज कराकर काउंटर के प्रभारी को सूचित करें। मेहर ने यह भी कहा कि पिछले दो साल से कार्यालय में दोहरा मापदंड अपनाया जा रहा है।

एनएचएम के डाटा मैनेजर डीएस भंडारी ने बताया कि एनएचएम के संविदा कर्मचारियों से लॉयल्टी बोनस के लिए अकादमिक रिकॉर्ड मांगा गया है. ताकि जरूरत पड़ने पर कोई जानकारी मांगे जाने पर वे काम आ सकें। पूर्व में अभिलेख कब प्रस्तुत किए गए थे? इस बारे में कोई जानकारी नहीं है। फिलहाल उनके पास रिकॉर्ड नहीं है। एक कर्मचारी का राज्य मुख्यालय में रिकॉर्ड भी हो सकता है। ये कर्मचारी 2013 से और कुछ 2016 से काम कर रहे हैं।

नैनीताल न्यूज़ डेस्क !!!
 

Share this story