Samachar Nama
×

Dehradun चुनाव से ठीक पहले कांग्रेस में खुलने जा रहे निष्कासितों की वापसी के दरवाजे, विस्तृत रिपोर्ट तलब

Dehradun चुनाव से ठीक पहले कांग्रेस में खुलने जा रहे निष्कासितों की वापसी के दरवाजे, विस्तृत रिपोर्ट तलब

उत्तराखंड न्यूज़ डेस्क !!! कांग्रेस में वापसी की चाहत रखने वाले निष्कासित लोगों के लिए पार्टी के दरवाजे खुलने जा रहे हैं। पहले चरण में जिन लोगों ने वापसी का अनुरोध किया है और निष्कासन के दौरान किसी अन्य पार्टी की ओर रुख नहीं किया है, उन्हें फिर से शामिल किया जाएगा। वहीं, निष्कासित नेताओं को पार्टी में शामिल करने पर विचार करने के लिए गठित चार सदस्यीय समिति द्वारा तैयार की गई संक्षिप्त रिपोर्ट को प्रदेश अध्यक्ष गणेश गोदियाल ने अपर्याप्त बताया है। कमेटी को विस्तृत रिपोर्ट सौंपने का निर्देश दिया गया है। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष गोदियाल ने पिछले सितंबर में पार्टी के वरिष्ठ नेता हरीश कुमार सिंह की अध्यक्षता में चार सदस्यीय समिति का गठन किया था। समिति को निष्कासित नेताओं की वापसी के लिए अनुरोध करने के बारे में एक रिपोर्ट प्रस्तुत करने के लिए कहा गया था। इस रिपोर्ट के आधार पर पार्टी में निष्कासितों की वापसी का रास्ता तैयार किया जाएगा। चार सदस्यीय समिति में प्रदेश महासचिव गोविंद सिंह बिष्ट, प्रदेश सचिव शांति प्रसाद भट्ट और अध्यक्ष के साथ विजय सिजवाली शामिल हैं। कमेटी ने अपनी रिपोर्ट प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष को सौंप दी है। राज्य संगठन के मुखिया इस रिपोर्ट से संतुष्ट नहीं हैं। उन्होंने कहा कि रिपोर्ट संक्षिप्त है। पार्टी से निकाले गए जो लोग पार्टी में आना चाहते हैं, उनके बारे में विस्तृत रिपोर्ट तैयार करने को कहा गया है। रिपोर्ट निष्कासन के कारणों, नेताओं के आचरण और पार्टी गतिविधियों में उनकी भूमिका के साथ-साथ निष्कासन अवधि के दौरान पार्टी के संबंध में उनकी भूमिका की जांच करेगी। प्रदेश अध्यक्ष गणेश गोदियाल ने कहा कि वापसी पर फैसला मेरिट के आधार पर होगा। अभी जो रिपोर्ट प्राप्त हुई है उसमें संक्षिप्त विवरण के कारण योग्यता के आधार पर निर्णय लेना कठिन होगा। उन्होंने कहा कि विस्तृत रिपोर्ट राज्य के अन्य बड़े नेताओं के समक्ष भी रखी जाएगी। उन्होंने बताया कि पहले चरण में 10 नेताओं की वापसी संभव है। कमेटी को जल्द ही विस्तृत रिपोर्ट सौंपने को कहा गया है। दूसरी ओर, विस्तृत रिपोर्ट तैयार करने के लिए समिति को कड़ी मेहनत करनी होगी। इससे पहले समिति ने दोनों हलकों में पार्टी से निष्कासित करीब 60 नेताओं की वापसी को लेकर अपनी रिपोर्ट तैयार की थी। माना जा रहा है कि दूसरे चरण में बड़ी संख्या में निष्कासित लोग वापस लौट सकेंगे।

देहरादून न्यूज़ डेस्क !!! 

Share this story