×

Pratapgarh  सोनेलाल के नाम से ही जाना जाएगा मेडिकल कालेज
 

Take home this electric bike on EMI of around Rs 1200, will run 100 km on full charge
उत्तर प्रदेश न्यूज़  डेस्क !!! जिले को सौगात के रूप में मिले राजकीय मेडिकल कालेज प्रतापगढ़ का नाम डा. सोनेलाल पटेल के नाम पर ही है। फिलहाल कोई बदलाव नहीं दिख रहा है। मेडिकल कालेज में लग रहे विभागों के बोर्ड बता रहे हैं।खबरों से प्राप्त जानकर के अनुसार बताया जा रहा है कि,दो अरब 13 करोड़ की लागत से बने मेडिकल कालेज के नाम को लेकर महीनों कवायद हुई। इसके बाद जुलाई के महीने में प्रदेश सरकार ने इसका नाम डा. सोनेलाल पटेल स्वशाषी राज्य चिकित्सा महाविद्यालय प्रतापगढ़ रख दिया। इस नाम का जिले में जोरदार विरोध शुरू हो गया। बेल्हा नागरिक स्वाभिमान संघर्ष मोर्चा ने कई दिन आंदोलन चलाया।

किसी भी क्रांतिकारी या प्रतापगढ़ की विभूति के नाम से कालेज का नामकरण किया जाए,  सोनेलाल नाम उचित व स्वीकार्य नहीं है। आंदोलन के संयोजक अभिषेक तिवारी ने कहा था कि प्रतापगढ़ के उत्थान, विकास या मान बढ़ाने के संदर्भ में डा. पटेल का कोई योगदान नहीं है। अगर सरदार बल्लभ भाई पटेल जैसे महापुरुष के नाम पर रखा जाए तो उचित होगा। आंदोलन के साथ ही पूर्व विधायक बृजेश मिश्र सौरभ भी सरकार के निर्णय के खिलाफ मुखर हो गए थे। उनको धमकी भी मिली थी कि वह चुप रहें। 

सूत्रों के अनुसार बताया जा रहा है कि, पूरे केशवराय में मेडिकल कालेज के आसपास और शहर में कई होर्डिग लगवा दी, जिसमें लिखा था कि सरदार बल्लभ भाई पटेल राजकीय मेडिकल कालेज आने पर आपका स्वागत है। यही नहीं सदर विधायक राजकुमार पाल, विश्वनाथगंज विधायक डा. आरके वर्मा ने सौरभ पर तल्ख टिप्पणी भी की थी। इतनी आवाज उठने, आरोपों व तीखे बयानों के तीर चलने के बाद भी सरकार ने नाम में कोई परिवर्तन नहीं किया। यह बात मेडिकल कालेज के नाक-कान, गला विभाग के बोर्ड को देखकर खुद ही साबित हो जाती है।

आपकी जानकारी के लिए बता दे की,   इसमें डा. सोनेलाल पटेल स्वशाषी राज्य चिकित्सा महाविद्यालय लिखा है। इस बारे में प्रिंसिपल डा. आर्यदेश दीपक का कहना है कि शासन से जो नाम आया है उसका ही प्रयोग किया जा रहा है। कालेज का नाम डा. सोनेलाल पटेल स्वशाषी राज्य चिकित्सा महाविद्यालय है और अस्पताल का नाम प्रताप बहादुर चिकित्सालय है। कुछ दिन में ओपीडी के पर्चे समेत अभिलेखों पर भी यही अंकित होने लगेगा।

Share this story