×

NOIDA औद्योगिक विकास में अवरोध बन रहे अधिकारी 

NOIDA औद्योगिक विकास में अवरोध बन रहे अधिकारी 

उत्तर प्रदेश न्यूज़ डेस्क !!! खबरों से प्राप्त जानकारी के अनुसार बताया जा रहा है कि   ग्रेटर नोएडा टाय सिटी में वर्ष 2000 के करीब 20 हजार मीटर जमीन टाय डिजाइन एंड डेवलपमेंट इंस्टीट्यूट के लिए दी गई थी, आज तक खाली पड़ी है। शासन ने यमुना प्राधिकरण में टाय सिटी के लिए 60 उद्यमी लाने की शर्त रखी थी, दोगुने उद्यमियों ने आवेदन किया, लेकिन 10 महीने बीत जाने के बाद भी कोई काम शुरू नहीं हुआ।नरेश कुमार गुप्ता, उद्यमी कई उद्यमियों को 10 साल बाद भी कंपलीशन सर्टिफिकेट नहीं मिले हैं। नोएडा में उद्यमी परिसर को किराए पर देता है तो प्राधिकरण आवंटन रद करने का नोटिस जारी करता है। ऐसे माहौल में उद्यमी किस तरह उद्योग के विकास में मन लगाकर काम कर सकता है।विदेशी कंपनियों को यहां कम दामों में जमीन मिल रही है छूट दी जा रही है।

कंपनियां क्षेत्रीय उद्योगों को काम देने के बजाय अपने देश की वेंडर कंपनियों को काम दे रही हैं। इससे क्षेत्रीय उद्योग को कोई लाभ नहीं है। शासन को पालिसी लानी चाहिए, जिसमें ये सुनिश्चित किया जाए कि विदेशी कंपनियां क्षेत्रीय इकाइयों को वेंडर बनाएं।बताया जा रहा है कि,भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश उपाध्यक्ष अरविद शर्मा ने दो दिवसीय जिले के दौरे पर सोमवार को ग्रेटर नोएडा के एक्सपो मार्ट में जिले के उद्यमियों के साथ बैठक की।आपकी जानकारी के लिए बता दें कि, विभिन्न उद्यमी संगठनों के पदाधिकारी मौजूद रहे। उद्यमियों ने औद्योगिक विकास के लिए राह में बन रहे अवरोधों को हटाने की मांग की। उद्यमियों ने कहा कि वाइब्रेंट गुजरात का माडल तभी कामयाब होगा जब यहां के अधिकारी भी औद्योगिक विकास को लेकर संवेदनशील होंगे।

 सूत्रों के अनुसार बताया जा रहा है कि,मांगों के लिए उद्यमी वर्षों से प्राधिकरण व उत्तर प्रदेश औद्योगिक विकास प्राधिकरण का चक्कर लगा रहे हैं, लेकिन सुनवाई नहीं होती। यही कारण है कि कई उद्यमी अपनी फैक्ट्री अन्य प्रदेशों में ले जा रहे हैं। बिजली कटौती, आधारभूत ढांचा, अधिकारियों की कार्यशैली आदि को दुरुस्त करने की मांग की। उद्यमियों ने कहा कि जब तक अधिकारी उद्यमियों को ईमानदारी की नजर से नहीं देखेंगे तब तक हालात नहीं सुधरेंगे। इससे पहले भाजपा उपाध्यक्ष ने कहा कि क्षेत्र में उद्योगों के विकास के लिए मौलिक सुविधाएं मौजूद हैं। उद्यमियों को क्षेत्र के विकास व विदेशी कंपनियों के निवेश के लिए विदेशी दौरे के दौरान यहां की खासियतों को उजागर करना चाहिए। इसका काफी असर पड़ता है, गुजरात के उद्यमियों को इसका लाभ मिला है।

मीडिया रिपेार्ट के अनुसार  बता दें कि,   उद्यमियों की समस्याओं और सुझावों पर संबंधित विभागों, अधिकारियों व मुख्यमंत्री के साथ चर्चा कर उचित हल निकाला जाएगा। इस दौरान दादरी विधायक तेजपाल नागर, लघु उद्योग भारती, आइआइए, नोएडा एंटरप्रिन्योर्स एसोसिएशन आदि संगठन के सदस्य मौजूद रहे।

Share this story