×

Moradabad  FIR लिखाने गए तो दूसरे बेटे को भी मार देंगे, मौत के लाइव वीडियो के बावजूद मुरादाबाद पुलिस ने नहीं लिया एक्शनर

This 5G phone will be able to run even while getting wet in the rain, the battery will last for 6 days on a single charge, know the price and full specification
 उत्तर प्रदेश न्यूज़ डेस्क  !!!सूत्रों के अनुसार बताया जा रहा है कि,मुरादाबाद में हुए दंगल में उत्तराखंड के पहलवान की मौत के मामले में पुलिस ने 10 दिन बाद भी कोई कार्रवाई नहीं की है। उधर, पहलवान के भाई का कहना है कि दंगल के आयोजकों और प्रधान ने उनके घर जाकर उन्हें धमकाया है। समझौते से इंकार करने पर आयोजकों ने धमकाया कि FIR लिखाने गए तो दूसरे बेटे को भी मार देंगे।

दंगल में जान गंवाने वाले पहलवान महेश के बड़े भाई विक्की ने बताया कि शनिवार को दंगल के आयोजक और फरीदनगर के प्रधान समेत करीब 20-25 लोग उनके घर गंगापुर पहुंचे। विक्की के मुताबिक उस समय वह और उनके पिता काम पर गए थे। घर पर उनकी मां पार्वती, भाभी और बहन थी। दबंगों ने मामले में फैसला करने का दबाव डाला। इंकार करने पर धमकी दी कि थाने में रिपोर्ट लिखाने गए तो दूसरे बेटे को भी मार देंगे। विक्की का आरोप है कि उनके घर पहुंचने वालों में उनके गांव गंगापुर का प्रधान और फरीदनगर का प्रधान भी शामिल थे।

मुरादाबाद के ठाकुरद्वारा थाना क्षेत्र में फरीद नगर गाव में हुए दंगल के मामले में जिले के आला पुलिस प्रशासनिक अफसर भी कठघरे में खड़े हैं। 2 सितंबर को इस दंगल का आयोजन बिना अनुमति के हुआ था। कोविड के मद्देनजर ऐसे आयोजनों पर पूरी तरह से प्रतिबंध है। दंगल में न तो प्रशक्षित रेफरी था न ही वहां डाक्टर आदि की व्यवस्था थी। जहां दंगल हुआ वहां नौमी का मेला भी था। ऐसे में यह मानने की कोई वजह नहीं है कि स्थानीय पुलिस और प्रशासन को इस दंगल की जानकारी नहीं थी। पुलिस - प्रशासनिक अफसरों की लापरवाही से युवक की जान चली गई। लेकिन आला अफसरशाही ने अभी तक इसमें किसी की जिम्मेदारी तय नहीं की है। उल्टा मामले को दफन करने की कोशिशें की जा रही हैं।

Share this story