×

RAJASAMAND बाघेरी नाका का जलस्तर हुआ 15 फीट, 292 गांवों में होती है पेयजल सप्लाई

जिले में पेयजल सप्लाई के लिए महत्वपूर्ण बाघेरी नाका बांध में बीते 24 घंटे में 2 फीट पानी की आवक हुई है। 32.80 फीट ऊंचाई और 350 एमसीएफटी के बाघेरी नाका में रविवार सुबह 8 बजे से सोमवार सुबह 8 बजे तक 2 फीट पानी की आवक हुई। हालांकि कैचमेंट एरिया में कम बारिश होने से पानी की आवक धीमी है। बाघेरी नाका से जिले के 292 गांवों में पेयजल सप्लाई की जाती है।  नाथद्वारा सिंचाई विभाग से मिले आंकड़ों के अनुसार 9 सितंबर गुरुवार सुबह 8 बजे से शुक्रवार सुबह 8 बजे तक 0.20 फीट पानी की आवक के साथ बाघेरी नाका का जलस्तर कुल 8.20 फीट हो गया था। 10 सितंबर शुक्रवार सुबह 8 बजे से शनिवार सुबह 8 बजे तक 3.30 फीट पानी के आवक के साथ बाघेरी नाका का जलस्तर कुल 11.50 फिट हो गया। 11 सितंबर शनिवार सुबह 8 बजे से रविवार सुबह 8 बजे तक 2 फीट पानी की आवक के साथ जल स्तर 13.50 फिट हो गया और 12 सितंबर रविवार सुबह 8 बजे से सोमवार सुबह 8 बजे तक 2 फीट पानी की आवक के साथ बाघेरी नाका का जलस्तर 15.50 फिट हो गया।  जिले के सबसे बड़े 750 एमसीएफटी के नंदसमंद बांध में बारिश थमने के साथ ही पानी की आवक भी रुक गई है। पिछले 24 घंटे में बांध के कैचमेंट एरिया में बारिश नहीं होने से बांध का जल स्तर स्थिर रहा। नंदसमंद बांध का जल स्तर सोमवार सुबह 8 बजे 6.80 फीट दर्ज किया गया। 32 फीट भराव क्षमता का बांध 25.20 फीट खाली है। इस बांध से नाथद्वारा शहर में पेयजल सप्लाई और क्षेत्र के किसानों को रबी की फसल के लिए पानी दिया जाता है। इसी तरह 64 फीट भराव क्षमता वाले चिकलवास बांध का जलस्तर 45.20 फिट हो गया।  यह रही बारिश की स्थिति जिले में रविवार सुबह 8 बजे से सोमवार सुबह 8 बजे तक कही पर भी बारिश नहीं हुई। आसमान में काले घने बादल छाए रहे, लेकिन बरसे नहीं। आपदा नियंत्रण कक्ष से मिली जानकारी के अनुसार 1 जनवरी से 13 सितंबर तक आमेट में 482 एमएम बारिश दर्ज की गई है। इसी तरह भीम में 560 एमएम, देवगढ़ में 559 एमएम, केलवाड़ा में 323 एमएम, नाथद्वारा में 598 एमएम, रेलमगरा में 429 एमएम और राजसमंद मुख्यालय पर 617 एमएम बारिश रिकॉर्ड की गई है। जिले में 10 साल की बरसात का औसत 712 एमएम है। लेकिन इस साल 10 सितंबर तक जिले में 510.42 एमएम बारिश दर्ज की गई है।

राजस्थान न्यूज़ डेस्क !!! कैचमेंट एरिया में कम बारिश होने से पानी की आवक धीमी है।नाथद्वारा सिंचाई विभाग से मिले आंकड़ों के अनुसार 9 सितंबर गुरुवार सुबह 8 बजे से शुक्रवार सुबह 8 बजे तक 0.20 फीट पानी की आवक के साथ बाघेरी नाका का जलस्तर कुल 8.20 फीट हो गया था। 10 सितंबर शुक्रवार सुबह 8 बजे से शनिवार सुबह 8 बजे तक 3.30 फीट पानी के आवक के साथ बाघेरी नाका का जलस्तर कुल 11.50 फिट हो गया।खबरों से प्राप्त जानकारी के अनुसार बताया जा रहा है कि,जिले में पेयजल सप्लाई के लिए महत्वपूर्ण बाघेरी नाका बांध में बीते 24 घंटे में 2 फीट पानी की आवक हुई है।

रविवार सुबह 8 बजे से सोमवार सुबह 8 बजे तक 2 फीट पानी की आवक हुई। 11 सितंबर शनिवार सुबह 8 बजे से रविवार सुबह 8 बजे तक 2 फीट पानी की आवक के साथ जल स्तर 13.50 फिट हो गया और 12 सितंबर रविवार सुबह 8 बजे से सोमवार सुबह 8 बजे तक 2 फीट पानी की आवक के साथ बाघेरी नाका का जलस्तर 15.50 फिट हो गया।जिले के सबसे बड़े 750 एमसीएफटी के नंदसमंद बांध में बारिश थमने के साथ ही पानी की आवक भी रुक गई है।इस बांध से नाथद्वारा शहर में पेयजल सप्लाई और क्षेत्र के किसानों को रबी की फसल के लिए पानी दिया जाता है।।

सूत्रों के अनुसार बताया जा रहा है कि, जिले में रविवार सुबह 8 बजे से सोमवार सुबह 8 बजे तक कही पर भी बारिश नहीं हुई। आसमान में काले घने बादल छाए रहे, लेकिन बरसे नहीं। आपदा नियंत्रण कक्ष से मिली जानकारी के अनुसार 1 जनवरी से 13 सितंबर तक आमेट में 482 एमएम बारिश दर्ज की गई है। इसी तरह भीम में 560 एमएम, देवगढ़ में 559 एमएम, केलवाड़ा में 323 एमएम, नाथद्वारा में 598 एमएम, रेलमगरा में 429 एमएम और राजसमंद मुख्यालय पर 617 एमएम बारिश रिकॉर्ड की गई है। नंदसमंद बांध का जल स्तर सोमवार सुबह 8 बजे 6.80 फीट दर्ज किया गया। 32 फीट भराव क्षमता का बांध 25.20 फीट खाली है। लेकिन इस साल 10 सितंबर तक जिले में 510.42 एमएम बारिश दर्ज की गई है।

Share this story