×

Jhalawar सैंपल काउंटर पर मरीजों की इतनी भीड़ कि स्टाफ को सांस लेने की फुर्सत नहीं, फिर भी रोज 50 मरीज वंचित

 जिला एसआरजी अस्पताल में बड़ी संख्या मानसून के कारण मौसमी बीमारियों के प्रकोप के चलते में मरीज आ रहे हैं। अस्पताल में ज्यादातर मरीजों की जांच की जा रही है। इससे सैंपल काउंटर पर मौजूद स्टाफ के पास सांस लेने का समय नहीं है। चूंकि सैंपल लेने का समय तय हो गया है, इसलिए रोजाना 50 से ज्यादा मरीज बिना जांच के लौट रहे हैं।

बारिश के दौरान मौसमी बीमारियों के प्रकोप के चलते जिला एसआरजी अस्पताल में बड़ी संख्या में मरीज आ रहे हैं. इनमें से ज्यादातर मरीजों की जांच की जा रही है। इससे सैंपल काउंटर पर मौजूद स्टाफ के पास सांस लेने का समय नहीं है। चूंकि सैंपल लेने का समय तय हो गया है, इसलिए रोजाना 50 से ज्यादा मरीज बिना जांच के लौट रहे हैं। मरीजों की जांच नहीं होने पर उनका आक्रोश वर्तमान स्टाफ को भुगतना पड़ रहा है। जिला एसआरजी अस्पताल में जांच के लिए ब्लड सैंपल लेने का समय तय है। यहां रात 8 से 12 बजे तक सैंपल लिए जा रहे हैं। वहीं डॉक्टर को दिखाने में देरी होने पर सैंपल लेने का समय खत्म हो जाता है।

ऐसे में मरीज या तो दवाएं लेकर लौटते हैं या फिर उन्हें निजी लैब में जांच कराने के लिए बाहर जाना पड़ता है। इन दिनों डेंगू और मलेरिया की जांच ज्यादा लिखी जा रही है और इन जांचों को निकालने में डेढ़ से दो हजार रुपये का खर्च आ रहा है. काउंटर पर स्टाफ बढ़ा कर एक और वैकल्पिक काउंटर की व्यवस्था की जाए, ताकि हर मरीज की जांच हो सके. और उसे बाहर निजी लैब में जाकर अपनी जेब ढीली नहीं करनी पड़ती। अतिरिक्त सैंपल काउंटर से भी कर्मचारियों को कुछ राहत मिलेगी।

Share this story