Samachar Nama
×

बजट को नेता प्रतिपक्ष टीकाराम जूली ने बताया उबाऊ और नीरस, वीडियो में सामने आयी बड़ी वजह

भजनलाल सरकार के पूर्णकालिक बजट को नेता प्रतिपक्ष टीकाराम जूली ने उबाऊ और नीरस बताया है। जूली ने कहा कि यह सरकार किसानों, उद्योगों और आमजन तक को बिजली नहीं दे पा रही है। लेकिन बात 2031 और 2047 के रोड मैप की कर रही है........
hfg

राजस्थान न्यूज़ डेस्क !!! भजनलाल सरकार के पूर्णकालिक बजट को नेता प्रतिपक्ष टीकाराम जूली ने उबाऊ और नीरस बताया है। जूली ने कहा कि यह सरकार किसानों, उद्योगों और आमजन तक को बिजली नहीं दे पा रही है। लेकिन बात 2031 और 2047 के रोड मैप की कर रही है। टीकाराम जूली ने कहा कि इस सरकार ने गरीबों के लिए बजट में कोई प्रावधान नहीं किया है।

 

बजट के बाद टीकाराम जूली ने कहा कि सरकार का बजट उबाऊ, नीरस और दूरदर्शिता विहीन है. वित्त मंत्री ने फरवरी में अंतरिम बजट पेश किया था. उन्हें 73 फीसदी पूरा करने को कहा गया है. वह खुद स्वीकार कर रही हैं कि 27 फीसदी बजट पूरा नहीं हुआ है. जबकि हकीकत बिल्कुल उलट है. दरअसल, अंतरिम बजट पर सिर्फ 27 फीसदी काम हुआ है. जबकि 70-75 प्रतिशत अधूरा है। उन्होंने कहा, इस सरकार ने कई घोषणाएं की हैं. टीकाराम जूली ने कहा कि इस सरकार ने गरीबों के लिए बजट में कोई प्रावधान नहीं किया है. हमारी सरकार ने गरीबों के लिए इंदिरा रसोई, राशन किट और चिरंजीवी जैसी योजनाएं शुरू कीं। सरकार ने उनके लिए कोई प्रावधान नहीं किया है. जबकि पुरानी पेंशन योजना पर कोई विचार नहीं किया गया है.

घोषणा पत्र पर सीएम-वित्त मंत्री में तकरार: टीकाराम जूली ने कहा कि वित्त मंत्री कह रहे हैं कि उन्होंने घोषणा पत्र के 45 बिंदु पूरे कर दिए हैं. जबकि मुख्यमंत्री कह रहे हैं कि 45 फीसदी घोषणाएं पूरी हो चुकी हैं. जबकि हकीकत में उन्होंने अपने वादे पूरे नहीं किये हैं. पेट्रोल-डीजल की कीमतें हरियाणा के बराबर करने, किसानों को गेहूं की एमएसपी 2700 रुपये देने, किसान सम्मान निधि बढ़ाने के उनके वादे अभी भी अधूरे हैं। हर जिले में एक मेडिकल कॉलेज बनाने का वादा किया गया है. जबकि हर जिले में मेडिकल कॉलेज बन चुके हैं.

पानी के मुद्दे पर हारे पूर्वी राजस्थान और शेखावाटी: टीकाराम जूली ने कहा कि ईआरसीपी और यमुना जल समझौते पर बड़े-बड़े दावे कर वाहवाही लूटी. लेकिन आज तक एमओयू को सार्वजनिक नहीं किया गया है. इसका नतीजा यह हुआ कि लोकसभा चुनाव में ईआरसीपी प्रभावित इलाकों और शेखावाटी में जनता ने उन्हें आईना दिखा दिया. आज उन्होंने कहा है कि ईआरसीपी पर 9 हजार करोड़ रुपये से ज्यादा की वित्तीय मंजूरी जारी की जा चुकी है. जबकि हमारी सरकार ने 9500 करोड़ रुपए की वित्तीय स्वीकृति जारी की थी। वह उससे कह रहा है कि यह उसका काम है.

एक लाख पदों पर कैसे भर्ती करें: टीकाराम जूली ने कहा कि सरकार आज आम लोगों, किसानों और उद्योगों को बिजली नहीं दे पा रही है. लेकिन वे 2031 के रोडमैप की बात कर रहे हैं. बजट का विज़न 2047 है. लेकिन आज स्थिति क्या है? ये उन्हें नहीं पता. जिन्होंने 6 माह पूर्व लेखा अनुदान जमा कर दिया था। उसे क्या हुआ आज 1 लाख भर्ती की घोषणा। पहले 70 हजार भर्तियों का वादा किया गया था. लेकिन उनका रोडमैप नहीं बताया गया. जैसे केंद्र सरकार ने अग्निवीर योजना लाकर युवाओं का भविष्य बर्बाद कर दिया है। क्या ऐसी ही कोई योजना यहां भी लाई जाएगी?

हमने नया टैक्स नहीं लगाया, घाटा अब भी बढ़ रहा है: टीकाराम जूली ने कहा कि ये लोग अर्थव्यवस्था की बात करते हैं और आरोप लगाते हैं कि हमारे समय में अर्थव्यवस्था को नुकसान हुआ है. जबकि जब हमारी सरकार थी तो एक भी नया टैक्स नहीं लगाया गया. उन्होंने केंद्र के सामने बजट पेश किया. केंद्र सरकार जनता के लिए क्या करेगी यह अभी तक स्पष्ट नहीं है. आज के बजट में कहा गया है कि राज्य पर कर्ज बढ़ रहा है. यह कर्ज उनके समय में भी बढ़ रहा है और केंद्र सरकार का भी बढ़ रहा है.

Share this story

Tags