×

Jhalawar कलक्टर की मंडे मीटिंग में महत्त्वपूर्ण विषयों पर चर्चा सिलिकोसिस पीडितों को मिले हरसंभव सहायता-कलक्टर

k
सिलिकोसिस पीडि़तों को लेकर सरकार संवेदनशील है। पीडि़तों को सरकार की ओर से मिलने वाली सहायता समय पर मिले इसके लिए प्रभावी प्रयास करने होंगे। इसके लिए प्राप्त आवेदनों के वेरिफिकेशन एवं अन्य प्रक्रियाओं को पूर्ण करते हुए पीडि़तों को राहत प्रदान करना हमारी सर्वोच्च प्राथमिकता है। यह निर्देश जिला कलक्टर चेतन देवड़ा के सोमवार को कलेक्ट्रेट सभागार में आयोजित साप्ताहिक समीक्षा बैठक में खान विभाग के अधिकारियों को दिए। एडीएम (सिटी) अशोक कुमार ने बैठक एजेंडा प्रस्तुत करते हुए विभागीय प्रगति के बारे में जानकारी दी और विभागीय अधिकारियों को राजस्थान संपर्क, मुख्यमंत्री प्रकोष्ठ, राज्यपाल सचिवालय और पीएमओ से प्राप्त लंबित प्रकरणों को तय समय सीमा में निस्तारित करवाते हुए माह में द्वितीय सोमवार को प्रगति रिपोर्ट प्रस्तुत करने को कहा।  
अवैध खनन पर हो कार्यवाही:
कलक्टर देवड़ा ने खनन पट्टों, रॉयल्टी, अवैध खनन पर कार्यवाही आदि के बारे में भी फीडबैक लिया और अवैध खनन की रोकथाम हेतु प्रभावी कार्यवाही करने के निर्देश दिए। विभागीय प्रतिनिधि ने बताया कि अवैध खनन के 162 प्रकरणों में 2 करोड़ से अधिक की तथा इस माह 23 प्रकरणों में 5 लाख की जुर्माना वसूली के साथ-साथ बजरी खनन के 96 प्रकरणों में 116 लाख जुर्माना वसूली की है।
7 दिन में शुरू होगा ड्राइविंग ट्रेक:
बैठक में कलक्टर देवड़ा ने परिवहन अधिकारी से चित्रकूट नगर में बनवाये गये ड्राइविंग ट्रेक का शीघ्र शुरू करने के निर्देश दिए तो बताया कि अगले 7 दिनों में यहां कैमरे लगाने के बाद ट्रेक को प्रारंभ किया जाएगा। कलक्टर ने इस दौरान ओवरलोडिंग एवं अवैध परिवहन करने वालों पर कड़ी कार्यवाही करने के निर्देश दिए।
मृतक राशन डिलरों के आश्रितों को नियुक्ति के प्रकरण शून्य करें:
बैठक में कलक्टर देवड़ा ने जिला रसद अधिकारी से मृतक राशन डिलरों के आश्रितों को नियुक्त करने के प्रकरणों के बारे में पूछा और निर्देश दिए कि इस माह के अंत तक सभी लंबित प्रकरणों का निस्तारण करते हुए इन्हें शून्य करें। उन्होंने अपात्र लोगों द्वारा राशन उठाने के प्रकरण में वसूली की प्रगति के बारे में पूछा तो रसद अधिकारी ने 550 कार्मिकों से वसूली शेष होने की जानकारी दी।    
विविध विषयों पर की चर्चा:
वन विभाग के अधिकारियों से चर्चा करते हुए कलक्टर ने घर-घर औषधि योजना की अब तक की प्रगति जानी और इस योजना का व्यापक प्रचार-प्रसार करते हुए जन-जन तक इसका लाभ पहुंचाने के निर्देश दिए वहीं रीको के अधिकारियों को कलडवास एवं अंबेरी औद्योगिक क्षेत्र के संबंध में चर्चा करते हुए मुख्यमंत्री बजट घोषणा के तहत खेरवाड़ा में स्थापित होने वाले नवीन औद्योगिक इकाई के संबंध में कार्यवाही करने को कहा। कलक्टर ने जनजाति विभाग को कुुसुम योजना के तहत जनजाति कृषकों को सोलर पम्प हेतु केन्द्र व राज्य सरकार की ओर से मिलने वाली सहायता प्रदान करनेे, वन भूमि पर निवासरत जनजाति परिवारों को अधिकार पत्र प्रदान करने तथा जनजाति योजनाओं का व्यापक प्रचार-प्रसार कर अधिक से अधिक लोगों को लाभान्वित करने के निर्देश दिए। कृषि विभाग को कृषक साथी योजना के साथ अन्य विभागीय योजनाओं से कृषकों एवं पशुपालकों को लाभान्वित करने उनकी आय में वृद्धि के व्यापक प्रयास करने की बात कही। कलक्टर ने विभिन्न विभागों के माध्यम से सरकार की ओर से मिलने वाली अनुदान राशि एवं ऋण योजनाओं का लाभ पात्र व्यक्ति तक पहुंचाने पर जोर दिया। बैठक में पुलिस, राजस्थान प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड, उद्योग, रीको, टीएडी, कृषि, नरेगा, उद्यान व पशुपालन विभाग के कार्यों की समीक्षा की गई। बैठक में एडीएम सिटी अशोक कुमार, नगर निगम आयुक्त हिम्मतसिंह बारहठ सहित अन्य संबंधित विभागों के अधिकारी मौजूद रहे।

Share this story