×

Deogarh बाबा मंदिर खोलने की खुशी में झूम उठे देवघरवासी

s

झारखंड न्यूज डेस्क।। वैश्विक महामारी कोरोना के कारण आम श्रद्धालुओं के लिए लंबे समय से बंद पड़े बाबा वैद्यनाथ मंदिर खोले जाने के निर्णय के बाद बाबानगरी में हर्ष का माहौल है। झारखंड सरकार के कैबिनेट की ओर से मंगलवार को लिए गए निर्णय की जानकारी आते ही सभी वर्ग के लोगों में खुशी का वातावरण देखा जा रहा है। सरकार की ओर से एक घंटे में 100 श्रद्धालुओं के जलार्पण की व्यवस्था के आदेश जारी किए गए हैं। साथ ही जलार्पण करने के लिए पहुंचने वाले श्रद्धालुओं को ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन भी कराने कहा गया है।

18 वर्ष आयु वर्ग के प्रवेश पर रोक लगायी गयी है। तमाम तरह के प्रतिबंधों के बावजूद बाबा वैद्यनाथ मंदिर आम श्रद्धालुओं के लिए खोले जाने के निर्णय का सबों ने स्वागत किया है। इसको लेकर पुरोहित वर्ग के साथ व्यवसायियों के अलावा राजनेताओं व सबसे अधिक आम श्रद्धालुओं ने प्रसन्नता व्यक्त की है। वैसे भाजपा सांसद निशिकांत दुबे ने सरकार के निर्णय के बाद कहा कि बाबा वैद्यनाथ मंदिर के साथ राज्यभर के सभी बड़े धार्मिक स्थल खोल दिए गए हैं। यह किसी की सफलता या विफलता नहीं है। बाबा मंदिर खोले जाने की मांग लंबे समय से उनके साथ अन्य लोग भी कर रहे थे।

बाबा मंदिर खोले जाने की मांग को लेकर धरना, प्रदर्शन से लेकर अनशन तक किया गया, लेकिन सरकार ने कोई निर्णय नहीं लिया। बाद में सुप्रीम कोर्ट के आदेश का हवाला देते हुए उसी अनुसार खोले जाने की बात कही। सांसद ने कहा कि बाबा मंदिर खुलने का निर्णय सही है, लेकिन 18 वर्ष के युवा बाबा या अन्य मंदिर नहीं पहुंचे इसकी देखरेख कैसे होगी। बाबा मंदिर में जलार्पण के लिए ऑनलाइन बुकिंग के कारण संभव हो जाएगा, लेकिन अन्य मंदिरों में इसे कौन देखेगा। वहीं उन्होंने कहा कि दुर्गा पूजा के दौरान मां दुर्गा की प्रतिमा 5 फिट ही रखने का निर्णय लिया गया है। अगर 5 फिट प्रतिमा के कारण कोरोना नहीं होगा तो बड़ी प्रतिमा के कारण कोरोना कैसे हो जाएगा, सरकार को यह स्पष्ट करना चाहिए। व

हीं दूसरी ओर भाजपा विधायक नारायण दास ने सरकार के इस निर्णय पर प्रसन्नता व्यक्त करते हुए कहा कि इसके लिए देवघर की जनता धन्यवाद के पात्र है। जनता कटोरा लेकर सड़क पर उतर चुकी थी। इसके लिए उन्होंने भी विधानसभा में धरना, प्रदर्शन व अनशन किया। विधानसभा अध्यक्ष ने बुलाकर सदन में मांग सुनी व मुख्यमंत्री ने आश्वासन दिया। उसके बाद बाबा मंदिर खुल गया, यह शहरवासियों के लिए बड़ी राहत की बात है। वहीं पण्डा धर्मरिक्षणी सभा के महामंत्री कार्तिकनाथ ठाकुर व वरीय उपाध्यक्ष संजय मिश्रा ने इस निर्णय का स्वागत करते हुए कहा कि अब बाबानगरी के लोगों को कुछ राहत मिलेगी। सरकार से यह मांग लंबे समय से की जा रही थी। देवघर की अर्थव्यवस्था पूरी तरह बाबा मंदिर पर आधारित है। बाबा मंदिर बंद रहने से अर्थव्यवस्था बिगड़ गयी थी। अब चीजें पटरी पर लौटेंगी। इसके लिए मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन सहित बाबा मंदिर खोलने के लिए आंदोलन करने वाले लोग बधाई के पात्र हैं।

Share this story