×

J&k के पूर्व एमएलसी त्रिलोचन सिंह वजीर की हत्या मामले में दिल्ली पुलिस ने एक अभियुक्त को जम्मू से पकड़ा

J&k के पूर्व एमएलसी त्रिलोचन सिंह वजीर की हत्या मामले में दिल्ली पुलिस ने एक अभियुक्त को जम्मू से पकड़ा

जम्मू न्यूज डेस्क !!! जम्मू-कश्मीर के पूर्व एमएलसी, नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता और ट्रांसपोर्ट व्यवसाई त्रिलोचन सिंह वजीर की हत्या के मामले में शामिल एक अपराधी को दिल्ली पुलिस की विशेष शाखा ने जम्मू से गिरफ्तार किया है। ज्ञात हो कि जम्मू-कश्मीर के पूर्व एमएलसी त्रिलोचन सिंह वजीर 67 वर्षीय त्रिलोचन सिंह वजीर का शव विगत 9 सितंबर को दिल्ली के मोती नगर इलाके के एक फ्लैट के वॉशरूम में सड़ी-गली अवस्था में मिली थी। हत्या 3 सितंबर को की गई थी। 

इस गिरफ़्तारी के बारे में बात करते हुए पश्चिम दिल्ली के अतिरिक्त डीसीपी प्रशांत गौतम ने बताया कि हमने जम्मू में एक आरोपी राजू को गिरफ्तार किया, जो जम्मू-कश्मीर के पूर्व एमएलसी त्रिलोचन सिंह वजीर की मौत के मामले में शामिल था। उन्होंने खुलासा किया कि 3 सितंबर की घटना के दौरान 4 लोग मौजूद थे, जहां वजीर की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। त्रिलोचन सिंह वजीर को भोजन के साथ नशीली वस्तु दी गई थी।  

ज्ञात हो कि दिल्ली पुलिस को गुरुवार 9 सितंबर को मोती नगर में एक फ्लैट के पड़ोसियों से एक फ्लैट से बदबू आने की शिकायत भी मिली थी। घटनास्थल पर पहुंचने के बाद जब पुलिस ने दरवाजा खोला तो टॉयलेट में एक शव सड़ी-गली हालत में पाया। मृतक की शिनाख्त त्रिलोचन सिंह वजीर के रूप में उनके एक जानकार ने की थी। 


पुलिस ने जब छानबीन की तो हरप्रीत नामक एक साजिशकर्ता का नाम सामने आया, जो त्रिलोचन सिंह वजीर के इस हत्याकांड का मास्टरमाइंड था और वही सारी योजना बना रहा था। शुरुआती जांच में समझ आ रहा है कि इनकी लगभग 45 दिन से योजना चल रही थी। इस साजिश में गिरफ्तार राजू भी पूरी तरह शामिल था। पहले वो मुंबई में ड्राइवर का काम करता था। 


राजू गंजा ने पुलिस के पूछताछ में बताया कि मृतक की शिनाख्त त्रिलोचन सिंह वजीर की हत्या की साजिश में कुल 4 लोग शामिल थे। तीन अन्य आरपियों के नाम हरप्रीत सिंह, हरमीत सिंह और बिल्लू है। राजू गंजा ने बताया कि ये हत्या 3 सितंबर को 9-10 बजे के बीच हुई थी और हत्या से पहले वजीर के खाने में नशे की दवा मिलाई गई थी। फिर गोली मारी गई थी। अभी हत्या के पीछे के कारणों का खुलासा नहीं हुआ है।

 
न्यूज हेल्पलाइन

Share this story