×

JAIPUR उदयपुर में पुल से दो सौ फीट गहरी खाई में गिरा कैमिकल से भरा टैंकर, चालक सहित दो की मौत

Angry cow attacked firefighter, see what happened next in the video

राजस्थान न्यूज़ डेस्क !!!  हादसे में चालक सहित दो जनों की मौत हो गई। गैस कटर से केबिन को काटा गया और ज्वलनशील रसायन से भरे टैंकर में आग लगने की आशंका से इस बीच लगातार दमकलों के जरिए पानी डाला गया। खबरों से प्राप्त जानकर के अनुसार बताया जा रहा है कि, हादसा उदयपुर-अहदाबाद हाईवे पर काया के समीप पर कुण्डा वेला पुल पर हुआ। संभवत: ब्रेक फैल होने से अनियंत्रित होकर एक टेंकर दो सौ फीट की ऊंचाई से नदी में बनी खाई में जा गिरा। हादसे में चालक और खलासी ने मौके पर दम तोड़ दिया। टैंकर में स्प्रिट भरी थी और वह उदयपुर से अहमदाबाद जा रहा था। उदयपुर पुलिस तथा दमकल दल की टीम टैंकर के केबिन में फंसे शवों को बाहर निकालने में असमर्थ रही तब जाकर जयपुर से एसडीआरएफ की टीम को बुलाया गया। हादसे में चौमूं—जयपुर निवासी चालक बनवारी लाल यादव और खलासी गूंगा की मौत हो गई। 

सहायक पुलिस अधीक्षक ज्येष्ठा मैत्रेयी, गोवर्धनविलास थानाधिकारी मोहम्मद मुश्ताक मौके पर बने हुए थे। स्प्रिट में आग लगने की आशंका से दमकल दल को मौके पर बुलाया गया।  यहां गोवर्धनविलास क्षेत्र में सोमवार को वेला नदी के पुल से कैमिकल से भरा एक टैंकर दो सौ फीट गहरी खाई में जा गिरा।शाम पांच बजे तक जब टैंकर में फंसे शवों को नहीं निकाला जा सकता तब एसडीआरएफ की सहायता ली गई। इसके लिए 11 सदस्यीय दल जयपुर से सेनानायक पंकज चौधरी के निर्देश पर रोशनलाल के नेतृत्व में हवाई जहाज से उदयपुर पहुंचा।रेस्क्यू टीम जब यहां पहुंची तब टेंकर से कैमिकल का रिसाव हो रहा था। रेस्क्यू के दौरान केबिन को काटने से चिंगारी भड़कने के चलते आग लगने और विस्फोट की आशंका बनी हुई थी। ऐसे में एसडीआरएफ की टीम ने दमकल के जरिए कराई पानी की बौछारों के बीच केबिन को काटकर चालक और खलासी के शव बाहर निकाले। रात आठ बजे दोनों के शव एमबी अस्पताल की मोर्चरी में रखे गए हैं, जिनके पोस्टमार्टम मंगलवार सुबह कराए जाएंगे। पुलिस ने मृतकों के परिजनों को हादसे की सूचना दे दी है।

Share this story