×

Shimla नहीं बैठे चेतन बरागटा, सेब चुनाव चिह्न मिला

Shimla नहीं बैठे चेतन बरागटा, सेब चुनाव चिह्न मिला

हिमाचल प्रदेश न्यूज़ डेस्क !!! सेब बहुल क्षेत्र जुब्बल कोटखाई में अब सेब के नाम पर वोट मांगे जाएंगे। बीजेपी से टिकट नहीं मिलने से नाराज चेतन ब्रगटा निर्दलीय उम्मीदवार के तौर पर चुनावी मौसम में उतर गए हैं। बुधवार को उन्हें सेब का चिन्ह मिला।

चेतन के पिता स्वर्गीय नरेंद्र बरागटा राज्य के बागवानी मंत्री रह चुके हैं। सेब बहुल क्षेत्र होने के कारण वह बागवानी के लिए नई योजनाएं लेकर आए थे। सेब को ओलों से बचाने के लिए सेब के कार्टन के रेट से लेकर एंटी-हेल गन तक, उनके प्रयास जारी थे। चेतन ब्रगटा इसका फायदा उठाने की कोशिश करेंगे। चेतन के समर्थक साफ कह रहे हैं कि हम बीजेपी या कांग्रेस के नहीं बल्कि सेब वालों के उम्मीदवार हैं। सेब का सिंबल मिलने के बाद प्रतिद्वंद्वियों को भी इसका ब्रेक खोजने के लिए नई रणनीति पर काम करना होगा। बीजेपी को प्लान बी पर ही काम करना होगा। बड़े पैमाने पर यहां ब्रगटा के साथ चल रहे नेताओं पर कार्रवाई करने के बाद पार्टी को नीलम के लिए नए सिरे से चुनाव दल तैयार करना होगा।
जुब्बल कोटखाई विधानसभा उपचुनाव की लड़ाई में अब पूर्व सीपीएस रोहित ठाकुर कांग्रेस के उम्मीदवार हैं, नीलम सरायक भाजपा की उम्मीदवार हैं। इस निर्वाचन क्षेत्र से एक अन्य निर्दलीय उम्मीदवार सुमन कदम भी चुनावी मौसम में हैं। ब्रैगटा चुनाव में लोगों को भावनात्मक रूप से जोड़कर समर्थन हासिल करने की रणनीति पर काम कर रहे हैं, इसलिए उन्होंने चुनाव आयोग से सेब का चुनाव चिह्न देने का अनुरोध किया था।

चेतन ब्रगटा को पार्टी से मनाने के लिए काफी मशक्कत करनी पड़ी। मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर, शहरी विकास मंत्री सुरेश भारद्वाज से लेकर संगठन के पदाधिकारियों तक लगातार बोलते रहे, लेकिन ब्रगटा ने दो दिन पहले ही साफ कर दिया था कि वह चुनाव लड़ेंगे। नामांकन वापस लेने के आखिरी दिन भी नेताओं ने उनसे संपर्क करने की कोशिश की, लेकिन मोबाइल फोन स्विच ऑफ या पहुंच से बाहर होने के कारण संपर्क नहीं हो सका।  चेतन ब्रगटा सुबह फेसबुक पर लाइव हो गए। दोपहर तीन बजे के बाद ही उसके मोबाइल की घंटी बजी। 

जुब्बल कोटखाई से निर्दलीय उम्मीदवार सुमन कदम इससे पहले 2012 से शिमला नगर निगम से मेयर का चुनाव लड़ चुकी हैं। शिमला में भी वाहनों के प्रदूषण को लेकर आंदोलन हुआ था। फिलहाल कोटखाई इलाके में हलफनामा लेने का विरोध कर रहे हैं। उनका तर्क है कि राज्य सरकार ने लोगों को हलफनामा न देने की आजादी दी है। इसके बावजूद कोटखाई में लोगों से इसे लिया जा रहा था। वह वर्तमान में शिमला के कुसुम्प्टी में रहती है।

शिमला न्यूज़ डेस्क !!!
 

Share this story