Samachar Nama
×

Mandi केलंग व रिकांगपिओ से मंडी व कुल्लू आएंगे परिचालक

Mandi केलंग व रिकांगपिओ से मंडी व कुल्लू आएंगे परिचालक
हिमाचल प्रदेश न्यूज़ डेस्क !!! परिवहन निगम के मंडी व कुल्लू डिपो को केलांग व रिकांग पियो से संचालक मिलेंगे। निगम ने आदिवासी क्षेत्रों में आउट-ऑफ-टाइम ऑपरेटरों को बदलने की योजना बनाई है। सरकार ने हाल ही में राज्य के 23 डिपो में 565 आपरेटर नियुक्त किए हैं, सात डिपो में एक भी परिचालक नहीं भेजा गया है। इसमें कुल्लू और मंडी डिपो भी शामिल हैं। कुल्लू डिपो में करीब 200 रूट हैं और 36 ऑपरेटरों की जरूरत है। मंडी डिपो में 212 रूट हैं और 40 ऑपरेटर कम हैं। 54 नए ऑपरेटरों को केलांग डिपो और 80 को रिकांगपियो को भेजा गया है। नए संचालकों का प्रशिक्षण आदिवासी क्षेत्रों में 15-20 दिन तक चलेगा और उसके बाद रिपोर्ट निगम को भेजी जाएगी। इसके साथ ही जिन ऑपरेटरों ने यहां अपना कार्यकाल पूरा कर लिया है, उनका तबादला नए ऑपरेटरों के रूट पर चलने के कारण किया जाएगा। सरकाघाट को नौ, धर्मपुर को 16, सुंदरनगर को दो, करसोग को छह और जोगेंद्रनगर डिपो को 10। सुंदरनगर में दोनों महिला परिचालक हैं। जनजातीय क्षेत्रों में परिचालकों की संख्या कम होने के कारण कई परिचालकों को उनका कार्यकाल पूरा होने के बाद भी वहां से दूसरे डिपो में नहीं बदला जा सका। ऐसे में उन्हें दिए जा रहे अतिरिक्त भत्ते का भार सरकार पर पड़ रहा है। पुराने ऑपरेटरों को भेजने से सरकार पर बोझ कम होगा। बस स्टैंड पर नगदी जमा करने, ऑनलाइन बुकिंग, बस स्टैंड पर टिकट लगाने और अन्य कार्यों में भी ऑपरेटरों की ड्यूटी लगी हुई है। इस कारण भी परिचालक रूट के अनुसार पूरा नहीं कर पा रहे हैं। निगम ने प्रति बस के हिसाब से ऑपरेटरों को 1.46 फीसदी के मानदंड के तहत रखा है। पहले यह 1.60 फीसदी मानक था। यानी एक बस में दो परिचालक, जो पहले तीन थे। अब इसी के आधार पर ऑपरेटरों का ट्रांसफर किया जाएगा। अधिक संचालकों को आदिवासी क्षेत्रों में भेजा गया है। वहां प्रशिक्षण के बाद इन क्षेत्रों में अपना कार्यकाल पूरा कर चुके संचालकों को कुल्लू व मंडी समेत अन्य डिपो में स्थानांतरित किया जाएगा।

संतोष कुमार, मंडल प्रबंधक, एचआरटीसी मंडी

मंडी न्यूज़ डेस्क !!! 

Share this story