×

Dharmshala पपरोला आयुर्वेदिक कालेज उधार पर

Dharmshala पपरोला आयुर्वेदिक कालेज ‘उधार पर

राज्य का एकमात्र राजीव गांधी स्नातकोत्तर आयुर्वेदिक कॉलेज, पपरोला, जो एक डीम्ड विश्वविद्यालय या राष्ट्रीय आयुर्वेद संस्थान का सपना देखता था, पिछले कई दिनों से विशेषज्ञ डॉक्टरों को क्रेडिट पर प्राप्त करने में अपने दिन बिता रहा है। हैरानी की बात यह है कि संस्थान में 14 विषयों पर एम.डी. लेकिन रसशास्त्र एक ऐसा विभाग है जहां सालों से कोई विशेषज्ञ डॉक्टर नहीं है। रास शास्त्र एक ऐसा विभाग है जिसमें अभ्यास करने वाले डॉक्टर को आयुर्वेद की दवाओं के बारे में पढ़ाया जाता है।

फार्मेसी है, वहां बच्चे भी पढ़ते हैं, लेकिन विभाग प्रोफेसर नियुक्त करना भूल गया है। इधर-उधर से एएमओ डॉक्टरों को बुलाकर काम कराया जा रहा है। या तो सरकार उन्हें इस संस्थान में स्थायी नियुक्ति दे या फिर उन्हें विशेषज्ञ डॉक्टरों की नियुक्ति करनी चाहिए। अब सोचने वाली बात यह है कि जो डॉक्टर एमडी करने जा रहे हैं वे एमडी के बजाय इस विषय में क्या सीखेंगे। यही हाल यहां के सर्जरी विभाग का है। इनके बिना इस संस्थान में सर्जरी संभव नहीं है। स्थिति ऐसी होने जा रही है कि हर साल विशेषज्ञ डॉक्टर सेवानिवृत्त हो रहे हैं। कुछ इस संस्था से प्रतिनियुक्ति पर गए हैं। यही स्थिति रही तो 2024 से 2026 तक इस संस्थान में एक भी विशेषज्ञ चिकित्सक उपलब्ध नहीं होगा। इतना ही नहीं इतने बड़े आयुर्वेद संस्थान में 200 बेड का अस्पताल बनाया गया है. लेकिन यहां ब्लड बैंक की सुविधा नहीं है। न ऑपरेशन हो रहा है, न अल्ट्रासाउंड। यही कारण है कि इस अस्पताल में डिलीवरी या सर्जरी नहीं होती है। इसका मुख्य कारण यह है कि संस्थान में न तो रेडियोलॉजिस्ट है और न ही एनेस्थीसिया डॉक्टर। उत्तर भारत के ऐसे प्रतिष्ठित आयुर्वेद संस्थान में जहां बच्चों को डॉक्टर बनाया जाता है, तो उनमें से कुछ अलग-अलग विषयों के विशेषज्ञ डॉक्टर बन जाते हैं। लेकिन उनका भविष्य कैसा होगा जब उन्हें कोई प्रोफेसर नहीं पढ़ाएगा। अगर सरकार सुविधा ही नहीं दे सकती तो इस संस्था में करोड़ों विशाल भवनों का क्या उपयोग है? साथ ही यहां ब्लड बैंक बनाने की घोषणा की, लेकिन धरातल पर कुछ नहीं।

Share this story