Samachar Nama
×

Rewari 281 बच्चों का निजी अस्पतालों में कराया निश्शुल्क इलाज

Rewari 281 बच्चों का निजी अस्पतालों में कराया निश्शुल्क इलाज

हरियाण न्यूज़ डेस्क !!! जिले के 281 बच्चों के स्वास्थ्य विभाग की ओर से राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम  के तहत जयपुर, दिल्ली, पीजीआई आदि में नि:शुल्क इलाज व ऑपरेशन कराकर जरूरतमंदों को राहत पहुंचाने का कार्य किया गया है। जन्म से लेकर 18 वर्ष तक की आयु में जन्म दोष, विकासात्मक विलंब, रक्ताल्पता, हृदय रोग सहित विभिन्न रोगों की जांच, उपचार और ऑपरेशन नि:शुल्क किए गए। इस संबंध में स्वास्थ्य विभाग द्वारा नवजात शिशु सप्ताह के तहत राष्ट्रीय बाल संरक्षण कार्यक्रम के तहत जागरूकता फैलाई गई। नागरिक अस्पताल रेवाड़ी, कोसली के साथ सामुदायिक एवं प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों में जागरूकता सप्ताह के तहत नवजात शिशुओं की जांच, उनके माता-पिता को विभिन्न बीमारियों के बारे में जागरूकता, सरकार द्वारा दी जाने वाली सुविधाओं आदि की विस्तृत जानकारी दी गयी। इस दौरान गर्भवती व स्तनपान कराने वाली महिलाओं के साथ नवजात की जांच व स्वास्थ्य संबंधी जानकारी दी गई। सिविल अस्पताल के कक्ष संख्या 16 में स्थापित जिला अर्ली इंटरवेंशन सेंटर (डीईआईसी) के कक्ष क्रमांक 16 में संपर्क करने के लिए फोन किया गया। सिविल सर्जन डॉ. कृष्ण कुमार, प्रमुख चिकित्सा अधिकारी डॉ. एसके माही, वरिष्ठ चिकित्सा अधिकारी डॉ. सर्वजीत थापर के साथ विशेषज्ञ डॉक्टरों ने सरकार द्वारा चलाई जा रही स्वास्थ्य संबंधी योजनाओं की जानकारी प्राप्त कर अधिक से अधिक लाभ प्राप्त करने का आह्वान किया। डीईआईसी प्रभारी डॉ. मीनाक्षी ने बताया कि इस कार्यक्रम के तहत जन्म से लेकर 18 वर्ष तक के लोग जन्म दोष, विकासात्मक देरी, रक्ताल्पता, हृदय रोग, फटे होंठ, टेढ़े-मेढ़े पैर, भेंगापन आदि से पीड़ित हैं। बच्चों का नि:शुल्क उपचार किया जाता है। डीईआईसी विभाग और सूचीबद्ध निजी और सरकारी अस्पतालों में लागत। इसके तहत 2017 से अब तक कुल 281 बच्चों का इलाज किया जा चुका है। इसके तहत पैनल में शामिल निजी अस्पतालों में हृदय रोग से पीड़ित 74 बच्चों, चार न्यूरल ट्यूब डिफेक्ट, 93 कटे होंठ और तालू, 104 क्लब फीट (कुटिल और मुड़े हुए पैर), छह मोतियाबिंद और भेंगापन से पीड़ित बच्चों को नि:शुल्क प्रदान किया गया है। इससे पूर्व सिविल सर्जन द्वारा सरकारी स्कूलों में दृष्टिबाधित 91 बच्चों को चश्मे का निःशुल्क वितरण किया गया। उन्होंने कहा कि जन्म से लेकर 18 वर्ष तक के इन रोगों से पीड़ित बच्चे के इलाज के लिए सिविल अस्पताल कक्ष संख्या 16 में संपर्क किया जा सकता है।

रेवाड़ी न्यूज़ डेस्क !!! 

Share this story