×

Gurgaon रहेजा अक्षरा फेज एक व दो को दिए गए ओसी की जांच के लिए कमेटी गठित

Gurgaon रहेजा अक्षरा फेज एक व दो को दिए गए ओसी की जांच के लिए कमेटी गठित

हरियाणा न्यूज़ डेस्क !!! सेक्टर-14 रहेजा डेवलपर्स सोहना द्वारा विकसित अक्षरा फेज I व II प्रोजेक्ट में मूलभूत सुविधाओं का विकास नहीं होने से लोग ठगा हुआ महसूस कर रहे हैं। नगर नियोजन विभाग द्वारा जारी व्यवसाय प्रमाण पत्र पर भी आवंटियों ने सवाल खड़े किए हैं। बुधवार को सीनियर सिटी प्लानर संजीव मान की अध्यक्षता में हुई बैठक में एसटीपी ने भी जांच के लिए कमेटी गठित की है। इस संबंध में रहेजा बिल्डर के चेयरमैन से संपर्क किया गया लेकिन उन्होंने न तो कॉल रिसीव किया और न ही व्हाट्सएप पर दिए गए मैसेज का जवाब दिया।

बता दें कि रहेजा डेवलपर्स ने 2017 में सोहना में दीनदयाल योजना के तहत अक्षरा फेज I और टू कॉलोनी को लॉन्च किया था और लोगों ने यहां बुकिंग में प्लॉट खरीदे थे। 2019 तक कॉलोनी में कुछ नहीं हुआ। आवंटी विक्रम वर्मा के मुताबिक बिल्डर को जून 2019 में बिना सुविधाएं विकसित किए नगर नियोजन विभाग से ओसी भी मिल गया। अक्टूबर 2019 तक बिल्डर ने आवंटियों से लगभग 90 प्रतिशत राशि की वसूली भी कर ली है। फरवरी 2020 में आवंटियों से रजिस्ट्री, स्टांप, वकील की फीस ली और 2021 में रजिस्ट्रेशन करवाए, लेकिन हैरानी की बात यह है कि बिना सुविधाओं के लोग मौके पर ही अपना प्लॉट विकसित कर लें तो कैसे करें। इतना ही नहीं बिल्डर अब हाईस्कूल की साइट पर अवैध रूप से प्लॉट काट रहा है।

आवंटी विनीत अग्रवाल का कहना है कि मौके पर दिखाई गई 24 मीटर सड़कों में से किसी का भी निर्माण नहीं हुआ है, सीमेंट की पतली सड़क बनाई गई है, उनमें दरारें भी पड़ी हैं। आज जिस बस्ती में खेती की जा रही है उसके नाम पर जंगल खड़ा है। हमने अपने जीवन की पूंजी लगा दी है और अब हम घर नहीं बना पा रहे हैं। पानी, सीवर या नाली का कोई निशान नहीं है। बिजली के नाम पर सिर्फ पोल ही लगे हैं और वह भी टूटने लगे हैं।

आवंटियों ने एसटीपी को दिखाए कागजात में बताया कि ओसी नगर नियोजन विभाग के अधिकारियों की मिलीभगत से और परियोजना की सुविधाओं के संबंध में गलत अपडेट व फोटो लगा कर प्राप्त किया गया था। परियोजना के संबंध में एटीपी योजना, एटीपी प्रवर्तन और एटीपी एसटीपी कार्यालय की एक समिति गठित की गई है, जो पूरे मामले की जांच करेगी। बैठक में देखे गए कागजातों से प्रतीत होता है कि गलत कागजातों का सहारा लेकर ओसी हासिल की गई है। जांच पूरी होने के बाद दोषियों के खिलाफ मामला भी दर्ज किया जाएगा। बैठक में रहेजा बिल्डर प्रबंधन की ओर से भी कोई मौजूद नहीं था।

गुडगाँव न्यूज़ डेस्क !!!
 

Share this story