×

MADHUBANI मां का नेत्र पत्र खुलते ही उमड़े भक्त, महानिशा पूजा आज

नवरात्र के सातवें दिन मां का नेत्र पट खुलते ही मां का दर्शन और पूजन करने के लिए श्रद्धालुओं की भीड़ मंदिर परिसर में उमड़ पड़ी। सातवें दिन मां के सातवें स्वरूप मां कालरात्रि की पूजा-अर्चना की गई। दुर्गा सप्तशती के पाठ से वातावरण भक्तिमय हाे गया है। मंदिर परिसर में नवार्ण मंत्र का भी जप किया जा रहा है। हर तरफ माता रानी के नाम का जयकारा लगाया जा रहा है। आज मां के आठवें स्वरूप मां महागाैरी की पूजा-अर्चना की जाएगी। वहीं, इस वर्ष जिले भर में कुल 406 स्थानों पर दुर्गा पूजा पंडाल व मंदिरों में आयोजन हो रहा है। स्वीकृति प्राप्त सभी पूजा पंडालों व मंदिरों में शांतिपूर्ण पूजा आयोजन के लिए पर्याप्त संख्या में सुरक्षाकर्मियों की तैनाती की गई है।  सुरक्षाकर्मियों के साथ प्रत्येक पूजा स्थलों पर मंगलवार से प्रतिमा विसर्जन तक मजिस्ट्रेट की तैनाती की गई है। इस दौरान पूजा स्थलों व इसके आसपास पूर्ण शांति व्यवस्था बनाए जाने सहित असामाजिक तत्वों पर कड़ी नजर रखे जाने का निर्देश दिया गया है। हर थाने को सतर्क मोड में रहने का निर्देश दिया गया है। पूजा के दौरान किसी भी प्रकार के सांस्कृतिक आयोजन, डीजे बजाने सहित मेला का आयोजन किए जाने पर पूर्णतः प्रतिबंध लगाया गया है। पूजा समिति के प्रत्येक सदस्यों को फोटोयुक्त पहचान पत्र दिए जाने का निर्देश पूजा समिति को दिया गया है। वहीं, जगह-जगह झिझिया खेलकर बुरी शक्तियों से बचाने के लिए मां से प्रार्थना की गई है।


बिहार न्यूज डेस्क !!! आज मां के आठवें स्वरूप मां महागाैरी की पूजा-अर्चना की जाएगी । नवरात्र के सातवें दिन मां का नेत्र पट खुलते ही मां का दर्शन और पूजन करने के लिए श्रद्धालुओं की भीड़ मंदिर परिसर में उमड़ पड़ी । बता दें कि, सातवें दिन मां के सातवें स्वरूप मां कालरात्रि की पूजा-अर्चना की गई जिसके साथ ही सारा मंदिर भक्तिमय हाे गया और मंदिर परिसर में नवार्ण मंत्र का भी जप किया गया । बताया जा रहा है कि, मधुबनी में इस वर्ष जिले भर में कुल 406 स्थानों पर दुर्गा पूजा पंडाल व मंदिरों में आयोजन हो रहा है ।

मंगलवार से ही सुरक्षाकर्मियों के साथ प्रत्येक पूजा स्थलों पर प्रतिमा विसर्जन तक मजिस्ट्रेट की तैनाती की गई है । इस दौरान पूजा स्थलों व इसके आसपास पूर्ण शांति व्यवस्था बनाए रखने के लिए सब पर कड़ी नजर रखे जाने का निर्देश दिया गया है । हर थाने को सतर्क मोड में रहने का निर्देश दिया गया है ताकि असमाजिक तत्व कोई गडबडी नहीं कर पाए । इसके साथ ही बता दें कि, पूजा के दौरान किसी भी प्रकार के सांस्कृतिक आयोजन, डीजे बजाने सहित मेला का आयोजन किए जाने पर पूर्णतः प्रतिबंध लगाया गया है । इसके अलावा पूजा समिति के प्रत्येक सदस्यों को फोटोयुक्त पहचान पत्र दिए जाने का निर्देश पूजा समिति को दिया गया है ।

मधुबनी न्यूज़ डेस्क !!!

Share this story