×

MOTIHARI प्रतियोगिता में शामिल बच्चों ने बताया हिंदी भाषा का महत्व

 स्वास्थ्य सेवा को बेहतर करने के तमाम प्रयासों के बीच जिले के केसठ प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र से व्यवस्था को शर्मसार करने वाला वाकया हुआ है। यहां देर रात पीएचसी बंद रहने के कारण एक मरीज की जान चली गई। गौरतलब है कि जिले के प्रभारी मंत्री मंगल पांडेय सूबे के स्वास्थ्य मंत्री भी हैं। सुबह मरीज की मौत की सूचना मिलते ही बड़ी संख्या में ग्रामीण वहां जुट गए और जमकर हंगामा किया।  जानकारी के अनुसार सोमवार को लगभग 12 बजे रात में केसठ गांव निवासी 61 वर्षीय उमेश सिंह का अचानक तबियत खराब होने पर उमेश सिंह अपने पत्नी व स्थानीय वार्ड सदस्य प्रतिनिधि शंकर यादव के साथ केसठ स्वास्थ्य केंद्र पहुंचे। जहां पहले से ही गेट बंद था। मरीज दर्द से तड़प रहा था। साथ पहुंचे लोगों द्वारा गेट खुलवाने के काफी प्रयास किया गया, लेकिन गेट नही खुलने पर मरीज जान बचाने का गुहार लगाते हुए जान बचा लेरे बबुआ कहते हुए चिल्लाता रहा। काफी देर बाद अंदर से आवाज आई कि कोई डाक्टर नहीं है। जिसके बाद मरीज को कहीं और ले जाने के लिए स्वजन भागे लेकिन तबतक काफी देर हो चुकी थी और मरीज ने दम तोड़ दिया। इस घटना से मृतक की पत्नी व परिजन का रो-रो कर बुरा हाल है। मृतक की पत्नी रो रो कर कह रही थी कि गेट खोल इलाज हो गया होता तो उसके पति की जान बच जाती। घटना की सूचना सुबह में पूरे गांव में जंगल की आग की तरह फैल गई। उग्र ग्रामीण स्वास्थ्य केन्द्र पहुंचे गए। और स्वास्थ्य विभाग के खिलाफ विरोध जताया। घटना की जानकारी मिलने पर स्वास्थ्य केन्द्र पहुंचे मुखिया धनजंय यादव उर्फ विधायक ने कहा कि सुबह के 9 बजे तक स्वास्थ्य केंद्र में कोई चिकित्सक नही है। अपने से चलकर आए मरीज का गेट नही खुलने से हुई मौत को निदनीय बताते हुए। इसकी जांच कर दोषियों पर करवाई की मांग की है। इस संदर्भ में जब प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी शत्रुघ्न प्रसाद से इस संबंध में बात की गई तो उन्होंने बताया कि रात्रि में डा.धर्मदेव सिंह डयूटी पर थे। डिलेवरी के लिए आए मरीज के परिजनों द्वारा छोटा गेट बंद कर दिया गया था, जो हमेशा खुला रहता है। इस स्थिति में मरीज की मौत हो गई जिसका उन्हें भी दुख है। चाहे मामला जो भी रात्रि में मरीज के बार बार गुहार के बाद गेट नही खुलना व मरीज की मौत हो जाना स्वास्थ्य विभाग के लापरवाही को पूरी तरह उजागर करता है। ग्रामीणों ने दोषियों पर करवाई की मांग संबंधित अधिकारी से की है।

बिहार न्यूज़ डेस्क !!! वाद-विवाद प्रतियोगिता का विषय ‘हिंदी भाषा का महत्व आवश्यक या अनावश्यक’ था। टोपाज सदन के छात्र अनुराग कुमार, अतुल कुमार, अमीत कुमार, अभिनव कुमार, अनु कुमारी, हाजरा खातून ने द्वितीय, ऐमरेल्ड सदन के छात्र नीतीश कुमार,आयुश कुमार, आशुतोष प्रिय, रघुवेंद्र सागर ने तृतीय व रूबी सदन के छात्र सोमेश कुमार, अमन कुमार, नवनीत कुमार, अमृत आनंद, रिया कुमारी ने चतुर्थ स्थान प्राप्त किया।सूत्रों के अनुसार बताया जा रहा है कि,मएस मेमोरियल पब्लिक स्कूल में हिंदी दिवस पर अंतरसदनीय वाद-विवाद एवं भाषण प्रतियोगिता आयोजित की गई। इसका शुभारंभ स्कूल के चेयरमैन डाॅ सीबी सिंह ने किया। डाॅ सिंह ने कहा कि हिंदी हमारी सिर्फ मातृभाषा ही नहीं, बल्कि राष्ट्रभाषा भी है। मगर, हिंदी का स्तर लगातार गिरता जा रहा है, यह सोचनीय विषय है।भाषण प्रतियोगिता में प्राइमरी वर्ग में रूबी सदन की विदुषी पराशर ने प्रथम, ऐमरेल्ड सदन की श्रेयासी कुमारी ने द्वितीय व सैफायर सदन की दीपिका कुमारी एवं ऐमरेल्ड सदन के छात्र दिव्यांशु कुमार ने तृतीय स्थान प्राप्त किया।

कार्यक्रम का संचालन हिंदी की शिक्षिका पूजा मिश्रा ने किया। प्रबंधक प्रफुल्ल मिश्रा, नम्रता शर्मा, पूजा मिश्रा, सुमन वर्मा, रिभा गुप्ता, जूही कुमारी, प्रीति सिंह, कामेश्वर मिश्रा, मुकेश सिंह, आशुतोष सिंह, मोहित ठाकुर, रितेश, ब्रजभुषण, अरविंद मिश्रा, संजीव सिंह, द्विजेंद्र कुमार, लखींद्र कुमार, अरविंद कुमार, ब्रजेश श्रीवास्तव, लालबाबू प्रसाद, निकेश सिंह, कमलेश्वर तिवारी, रत्नेश्वर सिंह भी थे।मएस मेमोरियल पब्लिक स्कूल में हिंदी दिवस पर अंतरसदनीय वाद-विवाद एवं भाषण प्रतियोगिता आयोजित की गई। इसका शुभारंभ स्कूल के चेयरमैन डाॅ सीबी सिंह ने किया। डाॅ सिंह ने कहा कि हिंदी हमारी सिर्फ मातृभाषा ही नहीं, बल्कि राष्ट्रभाषा भी है। मगर, हिंदी का स्तर लगातार गिरता जा रहा है,प्रतियोगिता में सैफायर सदन के छात्र पुलकित मिश्रा, सुमित कुमार, गजनफर अली खान, नवनीत कुमार, राजनंदनी कुमारी ने प्रथम स्थान हासिल किया। वही टोपाज सदन के छात्र अनुराग कुमार, अतुल कुमार, अमीत कुमार, अभिनव कुमार, अनु कुमारी, हाजरा खातून ने द्वितीय, ऐमरेल्ड सदन के छात्र नीतीश कुमार,आयुश कुमार, आशुतोष प्रिय, रघुवेंद्र सागर ने तृतीय व रूबी सदन के छात्र सोमेश कुमार, अमन कुमार, नवनीत कुमार, अमृत आनंद, रिया कुमारी ने चतुर्थ स्थान प्राप्त किया।जूनियर वर्ग में रूबी सदन की आतिया अंजुम ने प्रथम, टोपाज सदन के सर्वजीत कुमार ने द्वितीय, ऐमरेल्ड सदन के शेख साहिल ने तृतीय व ऐमरेल्ड सदन के प्रांजल कुमार ने चतुर्थ स्थान प्राप्त किया। भाषण प्रतियोगिता में प्राइमरी वर्ग में रूबी सदन की विदुषी पराशर ने प्रथम, ऐमरेल्ड सदन की श्रेयासी कुमारी ने द्वितीय व सैफायर सदन की दीपिका कुमारी एवं ऐमरेल्ड सदन के छात्र दिव्यांशु कुमार ने तृतीय स्थान प्राप्त किया। जूनियर वर्ग में रूबी सदन की आतिया अंजुम ने प्रथम, टोपाज सदन के सर्वजीत कुमार ने द्वितीय, ऐमरेल्ड सदन के शेख साहिल ने तृतीय व ऐमरेल्ड सदन के प्रांजल कुमार ने चतुर्थ स्थान प्राप्त किया। कार्यक्रम का संचालन हिंदी की शिक्षिका पूजा मिश्रा ने किया। अतिथियों का स्वागत प्राचार्य सतनाम सिंह ने किया।

शुभारंभ स्कूल के चेयरमैन डाॅ सीबी सिंह ने किया। डाॅ सिंह ने कहा कि हिंदी हमारी सिर्फ मातृभाषा ही नहीं, बल्कि राष्ट्रभाषा भी है। मगर, हिंदी का स्तर लगातार गिरता जा रहा है, यह सोचनीय विषय है। वाद-विवाद प्रतियोगिता का विषय ‘हिंदी भाषा का महत्व आवश्यक या अनावश्यक’ था। प्रतियोगिता में सैफायर सदन के छात्र पुलकित मिश्रा, सुमित कुमार, गजनफर अली खान, नवनीत कुमार, राजनंदनी कुमारी ने प्रथम स्थान हासिल किया। वही टोपाज सदन के छात्र अनुराग कुमार, अतुल कुमार, अमीत कुमार, अभिनव कुमार, अनु कुमारी, हाजरा खातून ने द्वितीय, ऐमरेल्ड सदन के छात्र नीतीश कुमार,आयुश कुमार, आशुतोष प्रिय, रघुवेंद्र सागर ने तृतीय व रूबी सदन के छात्र सोमेश कुमार, अमन कुमार, नवनीत कुमार, अमृत आनंद, रिया कुमारी ने चतुर्थ स्थान प्राप्त किया।

Share this story