×

Facebook ने लगभग 1,000 'सैन्यीकृत' सामाजिक आंदोलनों पर लगाया प्रतिबंध

फेसबुक ने लगभग 1,000 'सैन्यीकृत' सामाजिक आंदोलनों पर लगाया प्रतिबंध

टेक्नोलॉजी न्यूज डेस्क !!! फेसबुक ने 'सैन्यकृत' सामाजिक आंदोलनों की लीक निजी सूची के बाद करबी 1,000 ऐसे समूहों पर प्रतिबंध लगा दिया है, जो सोशल नेटवर्क पर "खतरनाक व्यक्तियों और संगठनों" की सूची का हिस्सा हैं। फेसबुक ने आतंकवाद की श्रेणी वाले नाम अमेरिकी सरकार से ली है।

एक रिपोर्ट के मुताबिक, "खतरनाक आतंकवाद सूची में लगभग 1,000 प्रविष्टियां 'एसडीजीटी' या विशेष रूप से नामित वैश्विक आतंकवादियों का 'पदनाम स्रोत' नोट करती हैं, जो कि ट्रेजरी विभाग द्वारा बनाए गए प्रतिबंधों की सूची है और 11 सितंबर हमले के तत्काल बाद जॉर्ज डब्ल्यू बुश द्वारा बनाई गई हैं। "

फेसबुक की सूची में आधिकारिक एसडीजीटी सूची में पाए गए पासपोर्ट और फोन नंबर शामिल हैं।

सामग्री की समीक्षा करने वाले ब्रेनन सेंटर फॉर जस्टिस की स्वतंत्रता और राष्ट्रीय सुरक्षा कार्यक्रम के सह-निदेशक फैजा पटेल ने कहा, "सूचियां दो अलग-अलग प्रणालियों में बनाई गई हैं, जिनमें भारी मुस्लिम क्षेत्रों और समुदायों पर सबसे भारी दंड लागू होता है।"

पटेल ने द इंटरसेप्ट को बताया, "दक्षिणी गरीबी कानून केंद्र द्वारा मुस्लिम विरोधी घृणा समूहों के रूप में नामित घृणा समूह फेसबुक की सूचियों से अत्यधिक अनुपस्थित हैं।"

"फेसबुक अपने प्लेटफॉर्म पर कोई हिंसा का आयोजन नहीं चाहता है और (खतरनाक व्यक्ति और संगठन) सूची अत्यधिक जोखिम वाले समूहों को ऐसा करने से रोकने का प्रयास करता है।"

फेसबुक के "खतरनाक व्यक्तियों" की सूची में श्वेत वर्चस्ववादी बैंड, कु क्लक्स क्लान जैसे घृणा समूह और अल कायदा की शाखाएं और अन्य आतंकवादी समूह भी शामिल हैं।

फेसबुक ने इन खतरनाक श्रेणियों को 3स्तरों में विभाजित किया है। टियर 1 में नफरत और आतंकी समूह शामिल हैं, टियर 2 में सशस्त्र विद्रोहियों जैसे "हिंसक गैर-राज्य अभिनेता" शामिल हैं और 'सैन्यकृत' सामाजिक आंदोलनों को टियर 3 के रूप में नामित किया है।

2020 में, फेसबुक ने 600 'सैन्यीकृत' सामाजिक आंदोलनों की पहचान की और उनके द्वारा बनाए गए लगभग 2,400 पेज और 14,200 समूहों को हटा दिया है।

फेसबुक ने कट्टरपंथी साजिश समूह क्यूएनन से संबंधित सभी प्रकार की सामग्री पर भी प्रतिबंध लगा दिया है।

--आईएएनएस

सोशल मीडिया न्यूज डेस्क !!!

Share this story