Samachar Nama
×

क्या होता है लीप सेंकेड और क्यों खोने जा रही है इसे दुनिया

.

विज्ञान न्यूज डेस्क - जैसे-जैसे मनुष्य तकनीकी रूप से अधिक उन्नत होता जा रहा है, वैसे-वैसे उसके समय के सटीक मापन की आवश्यकता भी बढ़ती जा रही है। वर्तमान समय में दिन की माप का आधार पृथ्वी का घूर्णन माना जाता है। यानी वह समय जिसमें पृथ्वी अपनी परिक्रमा करती है। घड़ियों के लिए यह समय 24 घंटे का होता है, लेकिन यह पृथ्वी के अपने परिभ्रमण का सटीक समय नहीं है। इसलिए इसका मिलान करने के लिए लीप ईयर का प्रावधान है, जिसके कारण हर चार साल में साल का एक दिन बढ़ाना पड़ता है। इसके अलावा लीप सेकेंड का भी प्रावधान है, लेकिन अब यह तय किया गया है कि लीप सेकेंड का इस्तेमाल 2035 तक नहीं होगा। दुनिया में समय की माप के लिए जिम्मेदार वैश्विक संगठन ने कहा कि फ्रांस में दुनिया भर के सरकारी प्रतिनिधियों की एक बैठक में शुक्रवार को इस पर चर्चा हुई और वर्ष 2035 तक लीप सेकेंड को हटाने पर वे बहुमत से सहमत हो गए। इससे दुनिया भर की घड़ियों को समय-समय पर सेकंड के हिसाब से बदलने की जरूरत नहीं पड़ेगी।

लीप सेकंड का उपयोग पिछली आधी शताब्दी में सटीक परमाणु घड़ी के साथ पृथ्वी के घूर्णन को सुसंगत बनाने के लिए किया गया है। इसका मुख्य कारण पृथ्वी के घूर्णन की गति धीमी होना है, जिसके कारण परिवर्तन करने की आवश्यकता है। अधिकांश लोगों के लिए लीप सेकंड का कोई महत्व नहीं है। लेकिन यह उन प्रणालियों के लिए सिरदर्द बन गया है जिन्हें सटीक समय की आवश्यकता होती है। उपग्रह संचालन, सॉफ्टवेयर, दूरसंचार, व्यवसाय, अंतरिक्ष यात्रा, कई कार्यों के लिए एक सेकंड के अंश तक सटीकता की आवश्यकता होती है, जिससे घड़ियों का सटीक सिंक्रनाइज़ेशन आवश्यक हो जाता है, ताकि पूरे सिस्टम समूहों में लीप सेकेंड परिवर्तन किए जाएं, जो परेशान करते हैं का कारण बनता है।

Share this story