Samachar Nama
×

अगर खट्टी डकार और पेट में भारीपन जैसी समस्याओं से पाना है छुटकारा तो करें रोज यह योगासन 

'

लाइफस्टाइल न्यूज़ डेस्क,गलत खान-पान और खराब जीवनशैली के कारण एसिडिटी और गैस की समस्या आम है। हाइपरएसिडिटी तब होती है जब पेट में अतिरिक्त एसिड पैदा होता है। आयुर्वेद में इसे अमलपित्त के नाम से भी जाना जाता है। हाइपर एसिडिटी की समस्या के कारण सीने में जलन, अपच, गैस, खट्टी डकारें और पेट में भारीपन जैसे लक्षण दिखाई दे सकते हैं। इससे राहत पाने के लिए लोग अक्सर दवाइयों का सेवन करने लगते हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि हाइपरएसिडिटी की समस्या से निजात पाने में योग काफी मददगार हो सकता है। आज इस आर्टिकल में हम आपको हाइपरएसिडिटी से राहत पाने के लिए 6 योगासन बताने जा रहे हैं-

हाइपरएसिडिटी होने पर करें ये योगासन
वज्रासन
पेट से जुड़ी समस्याओं को दूर करने के लिए व्रजासन का अभ्यास फायदेमंद माना जाता है। यह आसन पेट और आंत में रक्त संचार को बेहतर बनाता है, जिससे भोजन पचने में मदद मिलती है। इसके नियमित अभ्यास से हाइपरएसिडिटी, गैस और कब्ज की समस्या से राहत मिल सकती है।

बालासन
बालासन को चाइल्ड पोज के नाम से भी जाना जाता है। यह आसन पाचन तंत्र को मजबूत बनाने में मदद करता है। यह पेट के आंतरिक अंगों को खींचने में मदद करता है, जिससे वे मजबूत बनते हैं। बालासन के नियमित अभ्यास से थकान और तनाव दूर होता है और हाइपरएसिडिटी से भी राहत मिलती है।

अगर है परेशानी तो अपनाएं ये घरेलू उपाय

पश्चिमोत्तानासन
हाइपरएसिडिटी की समस्या से राहत पाने के लिए आप पश्चिमोत्तानासन का अभ्यास कर सकते हैं। यह आसन पाचन तंत्र को मजबूत बनाने में मदद करता है। इसके अलावा, यह पेट के क्षेत्र में रक्त संचार को भी बढ़ाता है। पश्चिमोत्तानासन का अभ्यास करने से गैस और एसिडिटी के लक्षणों से राहत मिल सकती है।

अर्ध मत्स्येन्द्रासन
अर्ध मत्स्येन्द्रासन हाइपर एसिडिटी की समस्या से छुटकारा पाने के लिए अर्ध मत्स्येन्द्रासन भी एक बेहतरीन योग आसन है। यह रक्त परिसंचरण में सुधार करता है और शरीर में मौजूद हानिकारक पदार्थों को बाहर निकालने में मदद करता है। इसके नियमित अभ्यास से पाचन क्रिया बेहतर होती है और पेट संबंधी विकारों से छुटकारा मिल सकता है। इसके नियमित अभ्यास से गैस और अपच की समस्या से भी राहत मिल सकती है.

पवनमुक्तासन
पवनमुक्तासन मल त्याग को बेहतर बनाने में मदद करता है। यह योगासन पेट के हिस्से को स्ट्रेच करने में मदद करता है। इससे पेट की मांसपेशियां मजबूत होती हैं। यह भोजन को ठीक से पचाने में मदद करता है और पाचन क्रिया को बेहतर बनाता है। इसके नियमित अभ्यास से हाइपरएसिडिटी, गैस, कब्ज और अपच जैसी समस्याओं से राहत मिल सकती है।

हलासन
हाइपर एसिडिटी की समस्या में हलासन का अभ्यास बहुत फायदेमंद माना जाता है। इस आसन को करते समय शरीर हल की तरह दिखता है इसलिए इसे हलासन कहा जाता है। यह योगासन पाचन तंत्र को मजबूत बनाता है और पाचन क्रिया को बेहतर बनाता है। इसका नियमित अभ्यास करने से कब्ज, अपच और एसिडिटी की समस्या दूर हो सकती है।

मार्जोरी सीट
मार्जरी आसन शरीर में रक्त संचार को बेहतर बनाने में मदद करता है। पेट से जुड़ी कई गंभीर समस्याओं को दूर करने के लिए यह योगासन बहुत उपयोगी है। इसके नियमित अभ्यास से पेट में गैस, हाइपरएसिडिटी और कब्ज की समस्या से जल्द राहत मिल सकती है।

Share this story

Tags