×

क्‍या प्‍याज खाने से बढ़ जाती है सेक्‍स ड्राईव ?  जानें क्‍या हैं सच्‍चाई

अड़

प्याज की धाराओं (प्याज) को काटते समय अगर आप आंसू भी बहाएं तो भी ये शरीर को कोई नुकसान नहीं पहुंचाएंगे। प्याज के बल्ब कुछ एंजाइमों के साथ तीव्र सल्फर गैस का उत्सर्जन करते हैं। इसलिए, कटाई के तुरंत बाद आंखों में जलन हो जाती है। प्याज के बल्ब आंध्र प्रदेश, महाराष्ट्र, तमिलनाडु, उत्तर प्रदेश, गुजरात, मध्य प्रदेश, बिहार और अन्य राज्यों में उगाए जाते हैं। करी में प्याज डालने से इसका स्वाद और भी बढ़ जाता है। कच्चा खाना सेहत के लिए अच्छा होता है। हरा प्याज पाचन क्रिया को दुरुस्त करता है। लाल प्याज शरीर में अच्छे फैट के निर्माण में मदद करता है। बुखार, सर्दी, खांसी और गले की खराश को कम करने के लिए प्याज का रस और शहद एक साथ लिया जा सकता है। इसके अलावा प्याज यौन ऊर्जा (यौन ऊर्जा) को बढ़ाने में बहुत उपयोगी है। आइए देखते हैं ..

स्पर्म काउंट के लिए..

प्याज के रस में शहद मिलाकर पीने से शुक्राणुओं की संख्या में वृद्धि होती है। प्याज के बीज वीर्य को बढ़ाते हैं। सफेद प्याज का पेस्ट बनाकर मक्खन लगाकर भूनें। फिर थोड़ा सा शहद लेकर खाली पेट पीएं वियाग्रा काम करती है। यौन ऊर्जा को बढ़ाने के लिए एक चम्मच प्याज का रस और एक चम्मच अदरक का रस एक साथ लें। इस मिश्रण को दिन में तीन बार लेने से यौन शक्ति बढ़ती है। प्याज न केवल सेक्स ड्राइव को बढ़ाने के लिए है.. यह जननांगों के समुचित कार्य के लिए भी उपयोगी है।

जले हुए स्थान पर फफोले को रोकने के लिए..

त्वचा की सुंदरता बढ़ाने के लिए प्याज का सेवन अवश्य करें। जैतून का तेल और प्याज का रस समान रूप से मिलाकर चेहरे पर लगाएं, मुंहासे और दाग-धब्बे पूरी तरह से दूर हो जाएंगे। प्याज के बल्ब मामूली जलन को रोकने में भी मदद कर सकते हैं। जले हुए स्थान पर प्याज के रस को मलने से आराम मिलता है। फफोले को जलने से रोकता है। साथ ही, यह जले हुए स्थान पर बैक्टीरिया और संक्रमण को रोकता है। मधुमक्खियों या बिच्छुओं द्वारा काटे जाने पर दर्द से बचने के लिए प्याज का थोड़ा सा रस लगाएं।

दांतों के लिए..

दंत क्षय की समस्या वाले लोग प्याज के बल्ब अधिक लेते हैं। हरे प्याज के स्लाइस को कम से कम 2-3 मिनट तक चबाएं। इससे मुंह के कीटाणु मर जाते हैं। यह दांत दर्द और मसूड़ों की समस्याओं से भी छुटकारा दिलाता है। अगर कान का दर्द तेज हो तो प्याज के रस की कुछ बूंदें कान में डालने से आराम मिल सकता है। जो लोग गैस्ट्रो सिंड्रोम की समस्या से पीड़ित हैं उन्हें प्याज की गांठ खाने से राहत मिल सकती है। प्याज में एंटी-इंफ्लेमेटरी और एंटी-बैक्टीरियल गुण होते हैं जो पेट दर्द से राहत दिलाने में मदद करते हैं।

Share this story