Samachar Nama
×

क्या आप जानते हैं, गैस कनेक्शन के साथ मिलता हैं 50 लाख का बीमा और ये अधिकार, जानिए डिटेल्स

क्या आप जानते हैं, गैस कनेक्शन के साथ मिलता हैं 50 लाख का बीमा और ये अधिकार, जानिए डिटेल्स

यूटिलिटी न्यूज डेस्क् !!! अगर आपने अभी तक गैस कनेक्शन नहीं लिया है तो यह जानकारी आपके लिए बेहद जरूरी है। आज भारत के लगभग हर घर में गैस सिलेंडर कनेक्शन है। लेकिन हम में से बहुत से लोग गैस सिलेंडर को लेकर उपभोक्ताओं के अधिकारों के बारे में नहीं जानते हैं. गैस कनेक्शन को लेकर ग्राहकों को उनके अधिकारों की जानकारी गैस डीलर ही दें। लेकिन ज्यादातर मामलों में देखा जाता है कि गैस कनेक्शन देते समय डीलर्स ग्राहकों को जानकारी नहीं देते हैं. इसलिए उपभोक्ताओं को स्वयं अपने अधिकारों के प्रति जागरूक होना चाहिए।

आपको बता दें कि एलपीजी गैस कनेक्शन लेने वाले लोगों का 50 लाख रुपए तक का बीमा होता है। इस पॉलिसी को एलपीजी बीमा कवर कहा जाता है। यह गैस सिलेंडर से होने वाली किसी भी प्रकार की दुर्घटना में जान-माल के नुकसान के लिए प्रदान किया जाता है। गैस कनेक्शन मिलते ही आप इस पॉलिसी के लिए पात्र हो जाएंगे। नया कनेक्शन लेते ही आपको यह बीमा मिल जाता है।
जानिए एलपीजी बीमा क्या कवर करता है

जब आप गैस सिलेंडर खरीदते हैं तो आपका एलपीजी बीमा कट जाता है। सिलेंडर हमेशा एक्सपायरी डेट चेक करने के बाद ही लेना चाहिए। क्योंकि यह बीमा सिलेंडर की एक्सपायरी डेट से जुड़ा होता है। गैस कनेक्शन लेने पर आपको 40 लाख रुपए का दुर्घटना बीमा मिलता है। इसके साथ ही अगर सिलेंडर फटने से किसी व्यक्ति की मौत होती है तो 50 लाख रुपये तक का क्लेम किया जा सकता है. इसके लिए आपको कोई अतिरिक्त मासिक प्रीमियम देने की जरूरत नहीं है। अगर गैस सिलेंडर से कोई दुर्घटना होती है तो पीड़ित के परिजन इसके लिए क्लेम कर सकते हैं।
ऐसे कर सकते हैं क्लेम

ग्राहक को दुर्घटना के 30 दिनों के भीतर अपने वितरक और निकटतम पुलिस स्टेशन को दुर्घटना की सूचना देनी होगी। दुर्घटना की प्राथमिकी की एक प्रति पुलिस से प्राप्त की जानी चाहिए। क्लेम के लिए पुलिस थाने में दर्ज एफआईआर की कॉपी के साथ मेडिकल रसीद, अस्पताल का बिल, पोस्टमार्टम रिपोर्ट और डेथ सर्टिफिकेट भी जरूरी है.
कंपनियां बीमा की पूरी लागत वहन करती हैं

बता दें कि सम एश्योर्ड उसी को मिलता है, जिसके नाम पर सिलेंडर होता है। इस पॉलिसी के तहत आप किसी को नॉमिनी नहीं बना सकते हैं। क्लेम उन्हीं को मिलेगा, जिनके सिलेंडर पाइप, स्टोव और रेगुलेटर आईएसआई मार्क के होंगे। क्लेम के लिए आप सिलिंडर और चूल्हे की नियमित जांच कराते रहें। आपका वितरक दुर्घटना के बारे में तेल कंपनी और बीमा कंपनी को सूचित करता है। इंडियन ऑयल (इंडियन ऑयल), एचपीसीएल, बीपीसीएल जैसी तेल कंपनियां सिलेंडर के कारण दुर्घटना होने पर बीमा का पूरा खर्च वहन करती हैं।

Share this story