×

धीरे-धीरे घट रहा लिंग का आकार.. अगले 25 साल में यही होने वाला है..हाल 

अड़

हमारे मिथक कहते हैं कि प्राचीन काल में रूसी और ऋषि लाखों और हजारों वर्षों तक जीवित रहे। जैसे-जैसे समय बीत रहा है इंसान की उम्र भी कम होती जा रही है। हमारे दादा-दादी सौ से 150 साल के कैसे रहे, इसकी कहानियां हमारी आंखों के सामने हैं। वर्तमान में औसत मानव जीवन प्रत्याशा 70 से 80 वर्ष तक गिर गई है। यह 90 वर्ष से अधिक पुराना होने के लिए पर्याप्त है और अभी भी लंबी उम्र के साथ, यह समझा जा सकता है कि स्थिति वैसी ही है जैसी कि मीडिया में लोकप्रिय रूप से रिपोर्ट की जाती है। वहीं, वैज्ञानिकों का कहना है कि पुरुषों के शरीर के अंगों में एक महत्वपूर्ण विकास हो रहा है। एक हालिया सर्वेक्षण में पाया गया कि समय के साथ और वर्षों में लिंग का आकार धीरे-धीरे कम होता जाता है। शोधकर्ताओं ने मुख्य कारण और जोखिम का भी खुलासा किया।

मेडिकल रिकॉर्ड बताते हैं कि भारतीय पुरुषों के लिंग का औसत आकार सात से आठ इंच का होता है। पहले यह आकार और भी बड़ा था। वर्तमान में यह आकार धीरे-धीरे कम होता जा रहा है। वैज्ञानिकों का कहना है कि कुछ पुरुषों में लिंग का आकार सात इंच से भी कम होता है। वहीं, प्रजनन क्षमता से जूझ रहे पुरुषों का प्रतिशत भी बढ़ रहा है। डॉक्टर्स का कहना है कि अपने पार्टनर को सेक्सुअली संतुष्ट करने वाले पुरुषों का प्रतिशत भी ज्यादा नहीं है। वैज्ञानिकों का कहना है कि इन सबका मुख्य कारण वायु प्रदूषण है।


लिंग के आकार को प्रभावित करने और यौन प्रदर्शन को बढ़ाने वाले हार्मोन की उत्पादन प्रणाली वर्तमान में खतरे में है। वैज्ञानिकों ने पाया है कि कुछ खास तरह के प्लास्टिक उत्पादों का इस्तेमाल इसका मुख्य कारण है। प्लास्टिक के निर्माण में इस्तेमाल होने वाले phthalates रसायन के परिणामस्वरूप प्रजनन क्षमता घट रही है। उसी दर से, छोटे लिंगों के साथ पैदा होने वाले नर शिशुओं की संख्या बढ़ रही है। तथाकथित 'प्रवृत्ति' आधुनिक दुनिया महिला प्रजनन प्रणाली को प्रभावित कर रही है। शोध में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले वैज्ञानिक श्वान ने कहा, "मानव जाति का भविष्य खतरे में है।"

प्लास्टिक को सरल बनाने के लिए फ़ेथलेट नामक रसायन का उपयोग किया जाता है। धीरे-धीरे इन फोथलेट्स का इस्तेमाल खिलौनों से लेकर खाने तक में फैल गया। Phthalate रसायन मानव शरीर में प्रवेश करने के बाद प्राकृतिक हार्मोन के उत्पादन को रोकता है। इससे शिशुओं के यौन विकास और कामुकता में परिवर्तन होता है। Phthalate रसायन का प्रभाव सबसे पहले चूहों में Schwan नामक वैज्ञानिक द्वारा देखा गया था। इन प्रयोगों के आधार पर मनुष्य के भविष्य की भविष्यवाणी की जाती है।

वहीं, 2017 में एक युवती ने एक शोध प्रकाशित किया था। इस शोध में लगभग 45000 माघरेबी प्रत्यक्ष रूप से शामिल थे, जिसके माध्यम से लगभग 185 अध्ययन प्रकाशित हुए। इन अध्ययनों से पता चलता है कि पिछले 40 वर्षों में पश्चिमी देशों में सही मात्रा में वीर्य उत्सर्जित करने वाले पुरुषों की संख्या में आधे से अधिक की गिरावट आई है। अध्ययनों से पता चलता है कि 2045 तक, पुरुष वीर्य का उत्पादन करने में असमर्थ होंगे।

Share this story