×

प्रेगनेंसी के दौरान क्या महिलाओं के लिए मालिश करना सही है? जानिए इससे होने वाले फायदे व नुकसान के बारे में

प्रेगनेंसी के दौरान क्या महिलाओं के लिए मालिश करना सही है? जानिए इससे होने वाले फायदे व नुकसान के बारे में

हैल्थ न्यूज डेस्क।। अक्सर देखा जाता है कि प्रेगनेंसी के दौरान महिलाओं को मॉर्निंग सिकनेस, चक्कर आना, मूंड़ स्विंग के साथ-साथ कमर, पीठ दर्द जैसी कई परेशानियों का सामना भी करना पड़ता है। इसके साथ ही इनमें कई बार तो दर्द इतना बढ़ जाता है कि महिलाओं के लिए उठना-बैठना, चलना फिरना तक मुश्किल हो जाता है। ऐसे में प्रसव पूर्व मालिश से इन सभी छोटी-मोटी प्रॉब्लम्स की छुट्टी कर सकती हैं। चलिए आपको बताते हैं कि प्रेगनेंसी में मसाज से क्या क्या फायदे होते हैं।

क्या प्रेगनेंसी में मालिश करना सुरक्षित है?
अक्सर ऐसा होता है कि कुछ महिलाऐं दूसरी या तीसरे महिने में व कई बार तो प्रसव के दौरान पीड़ा से निपटने में मदद करने के लिए प्रसव पूर्व मालिश करना पसंद कर सकती हैं। ऐसे में मसाज से कुछ ट्रिगर पॉइंट्स एक्टिव हो जाते हैं, जो हानिकारक है। लेकिन पहले तीन महीनों में गर्भपात के चांसेस ज्यादा होते हैं। ऐसे में मसाज करवाने से पहले हमेशा डॉक्टर की सलाह लें।

प्रेगनेंसी में मसाज करने से क्या-क्या फायदे मिलते हैं...

प्रसव पूर्व मालिश के लाभ
इस दौरान में महिलाओं में मसाज चिंता, पीठ और टांगों के दर्द को कम करने में कारगर मानी जाती है। साथ ही इससे नींद में भी सुधार होता है।

तनाव से मिलेगी राहत
गर्भावस्था में मसाज करने से तनाव कम किया जा सकता है। इससे पोस्टपार्टम डिप्रेशन का खतरा भी कम होता है।

प्रेगनेंसी के दौरान क्या महिलाओं के लिए मालिश करना सही है? जानिए इससे होने वाले फायदे व नुकसान के बारे में

सिरदर्द से राहत
ऐसे में मसाज थेरेपी ट्रिगर पॉइंट्स को काफी हद तक शांत कर सकती है और सिरदर्द से राहत दिला सकती है। 

सूजन करे कम
रक्त वाहिकाओं पर दबाव बढ़ने से जोड़ों में सूजन या सूजन हो सकती है ऐसे में मालिश जोड़ों में द्रव संग्रह को कम करके सूजन को कम करती है।

बेहतर ब्लड सर्कुलेशन
इससे नस ब्लॉकेज व वैरिकाज़ नसों का खतरा भी काफी हद तक कम हो जाता है।

मूड़ स्विंग
प्रसवपूर्व मालिश फील-गुड हार्मोन को सक्रिय करती है और आपके मूड में सुधार कर सकती है।

प्रीमैच्योर डिलीवरी का खतरा घटाए
इससे समय से पहले और कम वजन वाले बच्चों की संभावना भी कम होती है।

हो सकते हैं साइड-इफेक्ट भी
. अगर आपको जी मिचलाना और चक्कर आ रहे हैं तो मालिश से परेशानी बढ़ सकती है
. पहली तिमाही में प्रसव पूर्व मालिश से गर्भपात हो सकता है।

Share this story