Samachar Nama
×

 गर्भवती महिलाओं को बरती जाने वाली 6 सावधानियां

फगर

एक महिला के जीवन में गर्भावस्था सबसे महत्वपूर्ण चीज है। लेकिन, साथ ही शारीरिक और मानसिक दोनों तरह के तनाव का प्रभाव पड़ता है। हार्मोनल परिवर्तन से कई तरह के प्रभाव हो सकते हैं। खासकर सर्दियों में गर्भवती महिलाओं को सर्दी-खांसी होने का खतरा अधिक होता है। इसलिए उन्हें दूसरों से ज्यादा ध्यान रखना पड़ता है। खासतौर पर शरीर को हाइड्रेट रखने की जरूरत है।

गर्भावस्था के दौरान प्रतिरोधक क्षमता कमजोर हो जाती है। इसलिए गर्भवती महिलाओं को इस समय फ्लू का टीका लगवाना चाहिए। रोग नियंत्रण केंद्र का कहना है कि टीका सुरक्षित है। सर्दी के मौसम में कुछ खास खाद्य पदार्थों का सेवन कर इम्युनिटी को एक्टिव रखने की जरूरत है। गर्भवती महिलाओं के आहार में सब्जियां, अदरक, बादाम, दही या लहसुन, दूध, मछली का तेल, लाल शिमला मिर्च, ब्रोकली आदि को शामिल करना चाहिए।

गर्भावस्था के दौरान शरीर अधिक संवेदनशील होता है। इसलिए वहां न जाएं जहां ज्यादा सर्दी हो या धूल, ज्यादा कीड़े। यह मां और अजन्मे बच्चे दोनों को नुकसान पहुंचा सकता है। सर्दी के मौसम में पानी पीने की आदत कम हो जाती है। लेकिन, सर्दियों में शरीर को पानी की ज्यादा जरूरत होती है। इसलिए जरूरी है कि दिन भर में पर्याप्त मात्रा में पानी पिया जाए। सर्दियों में चाय, अच्छा सूप, फलों का जूस आदि का सेवन करें।

आमतौर पर सर्दियों में आलस महसूस होता है। हालांकि, शरीर को सक्रिय रखना महत्वपूर्ण है। तो इस बार वाई दूला की सलाह से हल्का व्यायाम करें। सर्दियों में त्वचा जल्दी सूख जाती है। इसलिए त्वचा का ख्याल रखें। नारियल तेल का प्रयोग करें। क्रीम को बार-बार रगड़ें। गर्भावस्था के बाद खिंचाव के निशान स्वाभाविक रूप से होते हैं। अगर त्वचा रूखी हो जाती है तो स्ट्रेच मार्क्स होने की संभावना अधिक होती है।

Share this story