Samachar Nama
×

Pure Mustard Oil: इन 5 तरीकों से करें शुद्ध सरसों के तेल की पहचान

फगर

दूषित सरसों का तेल सेहत के लिए हानिकारक होता है। ऐसे तेलों के इस्तेमाल से गैस और एसिडिटी जैसी स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं। क्या इसलिए आप जो अवा तेल इस्तेमाल करते हैं वह मिलावटी है? शुद्ध क्या है, यह अवश्य जान लें। तभी बीमारियों से बचा जा सकता है।

क्या वह तेल मिलावटी है? अगर आप जानना चाहते हैं कि यह शुद्ध है या नहीं.. हाथ में थोड़ा सा तेल लेकर दोनों हाथों से अच्छी तरह मलें। यह समझ लेना चाहिए कि ऐसा करते समय रंग अगर ढीला हो तो वह कलंकित होता है। यदि आप उस तेल को सूंघते हैं, तो क्या यह असली है? डुप्लीकेट? यह जानता है। शुद्ध सरसों के तेल की महक तेज होती है। यदि उसमें ऐसी गंध नहीं आती है तो उसे दूषित समझ लेना चाहिए।

एक छोटी कटोरी में तेल डालकर फ्रिज में रख दें। थोड़ी देर बाद बाहर निकालें और टेस्ट करें। यदि तेल जम जाता है, तो यह दूषित हो जाता है। क्योंकि शुद्ध तेल कभी कठोर नहीं होता। तेल को परखनली में डालना चाहिए। फिर नाइट्रिक एसिड की कुछ बूंदें डालें और मिलाएं। फिर इसे तवे पर डालकर गर्म करें। अगर थोड़ी देर बाद मिश्रण लाल हो जाए तो इसका मतलब यह मिलावटी तेल है। तेल का रंग गहरा होता है। नहीं तो यह समझ लेना चाहिए कि अगर यह हल्के पीले रंग में है तो असली नहीं है। ऐसे तेल का प्रयोग नहीं करना चाहिए।

Share this story