×

Corona: यदि आप धूम्रपान करते हैं तो हो सकता है कि कोविड का टीका काम न करे

s

हेल्थ डेस्क,जयपुर!! हाल ही में, कुछ डॉक्टरों ने टीकाकरण से पहले और बाद में धूम्रपान न करने की सलाह दी है। नियमित रूप से धूम्रपान करने वाले कई लोग इससे चिंतित रहते हैं। उनके मन में यह सवाल उठता है कि क्या उनके शरीर में कोविड की दवा बिल्कुल भी काम करेगी। आइए जानें कितना डर ​​है।

Anti-tobacco Day : धूम्रपान छीन सकता है आंखों की रोशनी

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने बार-बार चेतावनी दी है कि अगर धूम्रपान करने वालों को कोविदोसिस है, तो बीमारी के प्रभाव बहुत अधिक गंभीर हो सकते हैं। इसलिए कहा गया है कि धूम्रपान करने वालों को पहले टीका लगवा लेना चाहिए।

जो लोग नियमित रूप से धूम्रपान करते हैं, उनके फेफड़े काफी कमजोर हो जाते हैं। चूंकि कोरोना से सांस की समस्या या फेफड़ों की समस्या होने की संभावना अधिक होती है, ऐसे में जिनके फेफड़े पहले से कमजोर हैं, उन्हें ज्यादा दिक्कत हो सकती है। यही कारण है कि जल्दी से टीकाकरण करने की सलाह दी जाती है।

कैसे धूम्रपान छोड़ते ही बदलने लगते हैं फेफड़े | दुनिया | DW | 31.01.2020

यह समझने के लिए कि धूम्रपान मारक की शक्ति को कितना कम कर सकता है, आपको यह जानने की जरूरत है कि मारक कैसे काम करता है। एंटीबॉडी मृत या कमजोर वायरस से बनते हैं जो प्रतिरक्षा प्रणाली से लड़ने के लिए शरीर में प्रवेश करते हैं। जो क्षमता पैदा होती है, वह असली वायरस बाद में शरीर में प्रवेश करने पर तेजी से काम करना शुरू कर सकती है। इसलिए रोग प्रभावित होने पर भी टीकाकरण कराने पर इसका प्रभाव काफी कम होगा।

धूम्रपान करने वालों पर फेफड़ों के कैंसर का खतरा बढ़ता है 30 गुना -  lung-cancer-risk-increases-on-people-who-smoke

नियमित स्वस्थ भोजन, भरपूर पानी और पर्याप्त नींद उन लोगों को बाधित करेगी जिनकी दिनचर्या लंबे समय से बाधित है, उनकी प्रतिरक्षा प्रणाली तेजी से काम करेगी और इसका प्रभाव लंबे समय तक शरीर पर बना रहेगा। लेकिन जो लोग धूम्रपान करते हैं या शराब पीते हैं उनमें एंटीबॉडी उत्पादन की दर दूसरों की तुलना में धीमी हो सकती है। ऐसे में कई डॉक्टर टीकाकरण से कुछ दिन पहले और बाद में धूम्रपान न करने की सलाह दे रहे हैं।

Share this story